यह है भारत की सबसे बड़ी भूतिया जगह

दुनिया में लाखों भूतिया जगह हैं पर आज हम भारत के सबसे भूतिया जगह को एक्सप्लोर करेंगे, लाखों लोगों के अनुभवों के बाद इस जगह को भूतिया माना गया है यह लेख उन लोगों के लिए है जो आत्माओं जैसी चीजों में रूचि रखते हैं और उन लोगों के लिए है जो विज्ञान के पढ़े जाने के लिए तैयार हैं और उन लोगों के लिए है उन लोगों के लिए है जो विज्ञान के लिमिटेड एरिया को छोड़ उसके अलावा और जगह जाकर एक्सप्लोर करना चाहते हैं .

राजस्थान में भानगढ़ पहले एक फलता फूलता शहर हुआ करता था पर समय के चक्र ने इसको इस तरह बदला है कि अब यह एकबैंडएंड सिटी की अलावा और कुछ नहीं रहा भानगढ़ जगह में भानगढ़ का फोर्ट यानी भानगढ़ का किला भारत की सबसे भूतिया और जगहों में शुमार है राजस्थान की एक पॉपुलर टूरिस्ट प्लेस है दिन में तो यह एक पॉपुलर टूरिस्ट प्लेस ही रहती है पर हर रात को यह एक प्रेतवाधित स्थान बन जाती है यहां तक कि आरके लॉजी सर्वे ऑफ इंडिया ने इस किले के थोड़े ही आगे 1 बोर्ड रखा है इसमें यह लिखा है कि भानगढ़ की सीमा में सूर्योदय से पहले और सूर्योदय के पश्चात प्रवेश करना वर्जित है.

भारत में यह एक इकलौता ऐसी जगह है जिसे गवर्नमेंट ऑफ इंडिया ने हॉन्टेड प्लेस घोषित किया है यह माना जाता है कि कोई इंसान अगर सनसेट यानी सूर्यास्त के बाद यहां जाएगा तो वापस कभी लौटकर नहीं आएगा

यहां आस-पास के लोग जो यहां रहते हैं वह यह कहते हैं कि इसके लिए से रात को अजीब अजीब सी आवाज आती है और रात को अंदर से पायल की आवाज और नाचने गाने की आवाज आती है ऐसा मानो जैसे महान आत्माएं कोई सेरेमनी मना रही हो लोगों के हिसाब से औरतों के चिल्लाने की और रोने की आवाज आती है और कई लोगों ने तो अपनी आंखों से एक औरत को यहां पर एक परफ्यूम के कंटेनर को लेकर किले में घूमते देखा है और उस समय पूरे किले से एक अजीब सी इत्र की खुशबू आती है प्यार इतना नी इस प्रकार है कि उस समय यहां एक रानी रहती थी जिसका नाम था रानी रत्नावती ऐसा कहा जाता है,

कि वह अपने समय की सबसे सुंदर रानियों में से एक थी जब 18 साल की थी तब बहुत सारे राजा शादी की इच्छा लेकर इनके पास आए उनमें से एक काला जादूगर था जिसकी रेपुटेशन बहुत खराब थी उसे पता था कि इतनी बड़ी रानी के साथ मेरी शादी नहीं हो सकती लेकिन उसे दिल से चाहता था और उसने ठान लिया था कि वह उस रानी को पाने के लिए कुछ भी कर सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »