जानिए गर्मियों में प्याज खाने के स्वास्थ्य लाभ

गर्मी का पारा बढ़ते ही लोगों को तरह-तरह की बीमारियां अपनी चपेट में लेने लगती हैं। कभी गर्मी से लू तो कभी उल्टी-दस्त। यहां तक कि त्वचा रोग, थकान भी इन दिनों ज्यादा परेशान करती है। क्या आप जानते हैं कि इन सब समस्याओं का एक समाधान है। यह है, प्याज। प्याज में कई तरह के एंटीआक्सीडेंट हैं जो अलग-अलग समस्याओं के लिए प्रभावी है। अतः प्याज को इस मौसम में एक दवा के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

त्वचा रोग में उपयोगी
गर्मियों के मौसम में सबसे ज्यादा पसीना निकलता है। इस वजह से त्वचा में गंदगी आसानी से चिपक जाती है। नतीजतन आपको तरह-तरह की त्वचा संबंधी समस्याएं होने लगती हैं मसलन पिंपल, कील-मुंहासे, चकत्ते, एलर्जी आदि। इन सब समस्याओं से बचने के लिए कच्चे प्याज का इस्तेमाल किया जा सकता है।

हृदय रोग में लाभकारी
इस मौसम में लोगों को बीपी की समस्या सर्दी की तुलना में ज्यादा होती है। बीपी हृदय रोग की एक बड़ी वजह है। इसलिए इन दिनों बीपी नियंतत्रत करना बहुत जरूरी है ताकि हृदय रोग से बचे रह सकें। जबकि ज्यादातर लोग यह नहीं जानते कि हृदय रोग में प्याज खाया जाना फायदेमंद होता है। 2007 में दी जरनल ऑफ न्यूट्रिशन में छपे एक अध्यन के अनुसार प्याज में केराटिन होता है जो वयस्को में बीपी को कम करने में मददगार है। इसके अलावा प्याज हृदय धमनियों को सख्त होने से रोकता है और उसे लचीला बनाए रखता है। इस तरह गर्मी में प्याज हृदय रोग को दूर रखता है।

बालों के लिए फायदेमंद
गर्मी के मौसम में बालों की समस्या भी ज्यादा होती है। इसकी एक बड़ी वजह पसीना आना भी है। पसीना, धूल-मिट्टी के साथ मिलकर सिर के स्कैल्प में गंदगी पैदा करता है, जिससे बाल कमजोर, रूखे और बेजान हो जाते हैं। ऐसे में गर्मी के मौसम में प्याज का रस सिर पर लगाना फायदेमंद हो सकता है। इससे बालों को मजबूती मिलती है और बालों का टूटना भी कम होता है।

पेट के लिए जरूरी
गर्मी के मौसम में पेट खराब होना एक आम समस्या है। जर सा तला-भुना खाया नहीं कि पेट खराब हो जाता है। दरअसल इन दिनों खाना आसानी से नहीं पचता। इस समस्या से निपटने के लिए भी प्याज का सेवन फायदेमंद है। प्याज में फाइबर हेाता है जो पाचन क्रिया को सामान्य रखता है। इसके साथ ही प्याज में खास तरह का फाइबर होता है जिसे ओलिगो फ्रक्टोज कहते हैं। यह आंत में अच्छे बैक्टीरिया को पनपने में मदद करता है। नेशनल अनियन एसोसिएशन के अनुसार प्याज में फाइटोकेमिकल होता है जो गैस्ट्रिक अल्सर के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »