कैसे एक उल्लू लाएगा आपके घर में बरकत ?

हिन्दू धर्म 33 करोड़ देवी-देवताओं को मानता है और हिन्दू धर्म में हर जाती के अपने-अपने देवी-देवता है। जिस तरह सभी देवी-देवताओं की पूजा की जाती है उसी तरह शास्त्रों में उनके वाहनों के बारे में भी बताया गया है। जैसे चूहा गणेश जी का वाहन है, नंदी भगवान शिव का वाहन है, मोर कार्तिकेय का वाहन है।

ऐसी मान्यता भी रही है की सभी देवी-देवता अपने प्रिय वाहन के रूप में किसी ना किसी पशु-पक्षी की सवारी करते थे। आपने मंदिरों में भी अपने वाहन पर बैठे देवी-देवताओं की तस्वीर देखी होगी। लेकिन इसी बीच एक ऐसा पक्षी भी जिसे लेकर हिन्दुओं में कई तरह के भ्रम, अंधविश्वास और मान्यताएं प्रचलित है।

उस पक्षी का नाम है उल्लू। हिन्दू लोग इसे शुभ और अशुभ दोनों मानते है। कुछ लोग इसकी तस्वीर घर में लगाते है और कुछ लोग उल्लू से घृणा करते है। भारतीय संस्कृति में उल्लू शब्द मुर्ख लोगों के लिए कहा गया है। लेकिन आपको शायद यकीन नहीं होगा की यूनानी कथाओं में उल्लू को बुद्धिमानी पक्षी बताया गया है।

लेकिन हिन्दू संस्कृति में कुछ लोग ही उल्लू को शुभ मानते है। फेंग सुई (चीनी वास्तुशास्त्र) में उल्लू को शुभ बताया गया है। उसमे बताया गया है की उल्लू गुड लक और धन को बढाने का प्रतीक है। आईये जानते है उल्लू को लेकर वास्तु शास्त्र में क्या मान्यताएं है?

घर में कहाँ रखें उल्लू की तस्वीर

अगर आप घर में उल्लू की तस्वीर या सिम्बल को रखना चाहते है तो उसे किसी भी कमरे में रख सकते है। जिस जगह आप उल्लू की तस्वीर को रखेंगे उस जगह आपको पॉजिटिव एनर्जी फील होगी। घर में उल्लू की तस्वीर या सिम्बल लगाने से घर में बुरी नजर का संकट नहीं रहता है और घर में खुशहाली आती है तथा रिश्ते मजबूत बनते है।

फेंगसुई यानी चीनी वास्तु शास्त्र के अनुसार उल्लू को कमरे के फ्लोर पर रखना चाहिए। आपको बाजार में कई तरह के उल्लू के अच्छे-अच्छे डिजाईन मिल जायेंगे जो आपके घर में अच्छे भी लगेंगे। आप चाहे तो एक उल्लू या उसकी फॅमिली को घर में रख सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »