RBI ने धोखाधड़ी के बारे में ग्राहकों को दी चेतावनी, ट्वीट कर दी ये महत्वपूर्ण जानकारी

बैंकों में आपका पैसा कितना सुरक्षित है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2019-20 में तत्कालीन 18 सरकारी बैंकों में धोखाधड़ी के कुल 12,461 मामले थे, कुल 1,48,427.65 करोड़ रुपये में। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने उपभोक्ताओं को बढ़ती धोखाधड़ी के खिलाफ चेतावनी दी है। बैंक ने ट्वीट किया कि ग्राहकों को अपने फोन कॉल, ईमेल, एसएमएस और वेब लिंक के बारे में व्यक्तिगत जानकारी इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने वाले किसी के साथ साझा नहीं करनी चाहिए।

RBI ने कहा है कि यदि संदेह है, तो अपने बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर ग्राहक सहायता नंबर की जाँच करें। आरबीआई ने ट्वीट किया है कि साइबर धोखाधड़ी चुटकुलों में की जाती है, इसलिए सावधान रहें। रिजर्व बैंक ने कहा है कि अपनी व्यक्तिगत जानकारी, कार्ड, बैंक खाता, आधार, पैन संबंधित जानकारी का खुलासा न करें। आरबीआई ने एक ट्वीट में कहा कि अगर आपको किसी अनजान नंबर से कॉल आती है या कोई आपसे बैंक अकाउंट नंबर मांगता है या केवाईसी की जानकारी मांगता है, तो आपको तुरंत फांसी देनी चाहिए।

2019-20 में तत्कालीन 18 सरकारी बैंकों में 1,48,427.65 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के कुल 12,461 मामलों में से सबसे अधिक धोखाधड़ी SBI में हुई थी। हाल ही में, एक आरटीआई कार्यकर्ता को आरबीआई से यह जानकारी मिली है। एसबीआई के बाद, पंजाब नेशनल बैंक ने 395 मामले दर्ज किए और 15,354 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की। अकेले एसबीआई के पास कुल धोखाधड़ी का 30 प्रतिशत है। बैंक ऑफ बड़ौदा तीसरे स्थान पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »