जानिए ब्रेस्ट कैंसर के इलाज का नया तरीका

कैंसर आमतौर पर शरीर के किसी एक अंग या हिस्से में एक ट्यूमर या ट्यूमर के समूह के रूप में शुरू होता है। जब यह अन्य अंगों में फैलता है, तो इस प्रक्रिया को मेटास्टेसिस कहा जाता है। मेटास्टेसिस को यदि सरल शब्दों में समझा जाए, तो इसमें तीन प्रक्रियाएं शामिल हैं – ट्यूमर कोशिकाओं का आसपास के हिस्सों में बढ़ना, दूसरे अंगों में और खून से बाहर कैंसर कोशिकाओं का फैलना या फिर किसी दूसरे अंग के खून में कैंसर कोशिकाओं का बढ़ना।

एपिथेलियल मेसेंकाईमल ट्रांजीशन (ईएमटी – जो ब्रैस्ट कैंसर मेटास्टेसिस को ट्रिगर करने और उसे बनाए रखने में सहायक होता है) के दौरान कोशिका की अपनी पहचान और गुण लुप्त होने लगते हैं। यह स्टेम सेल्स (ऐसी कोशिकाएं जो अन्य प्रकार की कोशिकाओं से अलग होती हैं) की तरह काम करना शुरू कर देती हैं। यह कोशिका को एक अलग प्रकार की कोशिका में बदलने की कोशिश करने लगता है। इसी वजह से यह लगातार घातक रूप से कैंसर को विकसित होने के लिए बढ़ावा देता है।

बेसल विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने मेटास्टेसिस को रोकने और कैंसर कोशिकाओं को वसा में परिवर्तित करने के लिए कैंसर प्लास्टिसिटी नामक नया तरीका खोज निकाला है। उन्होंने इस खोज के लिए कैंसर की एक मौजूदा दवा और मधुमेह की एक लोकप्रिय दवा का कॉम्बिनेशन इस्तेमाल किया है। इस रिसर्च के परिणाम प्रसिद्ध विज्ञान पत्रिका “गेन फैट-लूज मेटास्टेसिस: कंवर्टिंग इनवेसिव ब्रैस्ट कैंसर सेल्स इन टू एडिपोसाइट्स इनहिबिट्स कैंसर मेटास्टेसिस” में प्रकाशित हुए हैं।

दुनिया भर में, स्क्रीनिंग के तरीकों के साथ-साथ ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल में भी तुरंत सुधार लाने की जरूरत है। इसके तहत कैंसर अनुसंधान कुछ बड़े कदम उठा रहा है जिसमें रोगी के जीन के आधार पर दवा और अर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के इस्तेमाल का निर्धारण किया जाएगा। इसी संबंध में वैज्ञानिकों ने वसा के अणुओं के साथ कीमोथेरेपी की दवा को कैंसर को नष्ट करने में असरकारी पाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »