जानिए कम उम्र का प्यार सच्चा होता है या फिर सिर्फ एक आकर्षण

कम उम्र का प्‍यार बहुत से युवक – युवतीयों को होता है दोस्‍तों । प्‍यार आखिरकार प्‍यार होता है कम उम्र का हो या अधिक उम्र का ।

इस उम्र में किसी को भी सही और गलत का पहचान नहीं होती इस उम्र में लड़की लड़कियों को ठीक से बर्ताव करना भी नहीं आता तो वे लोग सच्चा प्यार कैसे कर सकते हैं ।

यह बस एक बचकाना हरकत होती है दोस्तों और कुछ नहीं ।इसलिए इस उम्र के प्‍यार को कभी भी सच्‍चा प्‍यार नहीं समझा जा सकता है । ये महज एक आकर्षण है और कुछ नहीं जो कच्‍ची उम्र के युवक और युवतीयों को बराबर हो जाता है।

माता-पीता का यह फर्ज बनता है की यदी उनके बच्‍चे इस तरह की बचकानी हरकत करते हैं तो उन्‍हें प्‍यार से समझाये । बच्‍चों को यह बतायें की सबसे ज्‍यादा जरूरी भवीष्‍य होता है न की प्‍यार ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »