जानिए गर्मियों में अनानास खाने के फायदे

अनानस सुनहरे रंग का दिखने वाला एक बहुत ही स्वादिष्ट सा फल है। परंतु क्या आप इस बात से परिचित है कि सुनहरे रंग का यह फल आपके सेहत के लिए भी सुनहरा है। जी हाँ, अनानास में ना केवल खट्टे-मीठे स्वाद का खजाना समाया हुआ अपितु साथ ही में यह स्वास्थ्य लाभ के लिए गुणों का भी भण्डार है।

यह फल एंटीऑक्सिडेंट, फाइबर, विटामिन ए और विटामिन सी, थायमिन, कैल्शियम, पोटेशियम, फास्फोरस, मैंगनीज के साथ-साथ फोलेट से भी भरपूर है। इसके अतिरिक्त, यह सोडियम और वसा में भी कम है। संक्षेप में अनानास पौष्टिक गुणों का भण्डार है और कैलोरीज कम होने की वजह से यह डाइटिंग करने वाले व्यक्तियों का घनिष्ट मित्र भी।

अनानास के फायदे करें पाचन शक्ति को उत्तेजित –
अनानस पाचन प्रक्रिया का समर्थन करने के लिए उत्तम माना जाता है। यह पाचन शक्ति को उत्तेजित तो करता ही है परंतु साथ ही में यह पेट एवं आंत की अंदुरनी सतह को भी शांत करने में भी उपयोगी है। यह घुलनशील एवं अघुलनशील दोनों ही तरह के फाइबर से भरपूर है, जो पाचन प्रक्रिया एवं मल-त्याग क्रिया में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करते हैं। इसके अलावा, इसमें ब्रोमेलैन नामक एक तत्व पाया जाता है जो प्रोटीन के पाचन में सहायक है।

अनानास आंत्र पथ के संक्रमण का इलाज करने में भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके अतिरिक्त, अनानास एक प्राकृतिक रेचक के रूप में कार्य करता है इसलिए यह कब्ज की समस्या का एक सफल समाधान है।

अनानास खाने के लाभ इम्युनिटी को बढ़ावा देने के लिए –
अनानस विटामिन सी का एक बहुमूल्य भण्डार है और विटामिन सी इम्यून सिस्टम की कार्यशीलता के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। यह शरीर की विभिन्न प्रकार के वायरस से रक्षा करता है और जुकाम, फ्लू, कान में संक्रमण और आदि संक्रामक बीमारियों के खिलाफ शरीर के प्रतिरोध प्रक्रिया को बढ़ावा देता है। विटामिन सी एक एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में भी कार्य करता है जो शरीर को फ्री-रेडिकल क्षति से बचाता है। शरीर में फ्री-रेडिकल के संचय से प्लाक उत्पादन होता है जो हृदय सम्बंधित बीमारियों का एक प्रमुख कारण है।

अनानास के उपयोग दिलाएँ मॉर्निंग सिकनेस से छुटकारा –
इस फील्ड से सम्बंधित अध्ययनों में यह पाया गया है कि सुबह-सुबह अनानास खाने से मॉर्निंग सिकनेस से होने वाली मतली एवं उलटी को कम किया जा सकता है। एक लोक उपाय भी यही सुझाव देती है कि मॉर्निंग सिकनेस को अनानास के जूस का सेवन करने से ठीक किया जा सकता है। इसके इस लाभ का श्रेय इसमें उच्च मात्रा में सम्मलित खनिज व विटामिन्स को जाता है, ख़ास तौर पर विटामिन बी 6।

तो अगली बार जब आपको मॉर्निंग सिकनेस का महसूस हो तो ताजा कटे हुए एक कटोरी अनानास का सेवन करें या फिर इसके जूस का आनंद उठाएं।

अनानास के गुण हैं उच्च रक्तचाप को रोकने में मददगार –
चूंकि अनानास में अच्छी मात्रा में पोटैशियम पाया जाता है और इसमें सोडियम की मात्रा भी कम है, इसलिए अनानस के नियमित रूप से सेवन करने पर उच्च रक्तचाप के खतरे को बहुत हद तक कम किया जा सकता है। एक कप अनानस में 1 mg सोडियम होता है और 195 mg पोटैशियम। उच्च मात्रा में निहित पोटैशियम रक्तचाप को कम करने में अत्यंत सहायक होता है।

पाइनेपल के फायदे करें सूजन को कम –
अनानास में ब्रोमेलैन नामक एक तत्व पाया जाता है जो एक प्राकृतिक एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में कार्य करता है और आपके शरीर को जलन व सूजन से छुटकारा दिलाता है। यह मोच, मांसपेशियों में मामूली खींचाव एवं चोट से जुड़ी सूजन का विरोध करने में मदद करता है। साथ ही यह गाउट (वात रोग) और गठिया से सम्बंधित दर्द व सूजन को शांत करने में भी सहायक है।

पाइनएप्पल जूस के फायदे है वजन घटाने में सहायक –
वजन घटाने वाले आहार में अनानस सर्वोत्तम फलों में से एक है। यह आपके पेट को भरा रखता है जिससे आप अत्यधिक भोजन ग्रहण करने से बच जाते हैं और आपके शरीर में ऊर्जा की कमी भी नहीं होती। और ऊपर से इसमें कैलोरीज भी बहुत कम होती है। इसमें पानी एवं फाइबर की मात्रा भी उच्च है जो आपको लंबे समय तक भरा-भरा रखती है।

आप वजन कम करने के लिए अनानास की मदद से एक वनस्पतीय मादक अर्क (tincture) बना सकते हैं। इसे बनाने के लिए आप पहले अनानास को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और मिक्सर की सहायता से अच्छे से पीस लें। इसके पश्चात इस मिश्रण को एक मेसन जार में डालें और इसमें लगभग आधा लीटर वोडका मिलाएं। एक सप्ताह के लिए इसे फ्रिज में रख दें। इस मिश्रण का एक चमच्च रोजाना खाना खाने से 15-20 मिनट पहले पियें।

अनन्नास खाने के फायदे हैं स्वस्थ आँखों के लिए –
विटामिन ए में समृद्ध होने के कारण, अनानस आँखों की स्वास्थ्य को बनाए रखने और चकत्तेदार अध: पतन (जो बुजुर्ग लोगों में दृष्टि हानि का एक प्राथमिक कारण है) से बचाव करने में फायदेमंद हैं। ऑप्थाल्मोलॉजी के अभिलेखागार में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चलता है कि प्रतिदिन अनानास की तीन या अधिक सर्विंग्स का उपभोग करने से आयु-संबंधित धब्बेदार अव्यवस्था के विकास के जोखिम में 36 प्रतिशत की कमी आ सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »