कोरोना वायरस से सही हुए मरीज ने बताया, कैसा महसूस होता है मरीज ने खुद बयां की अपनी दशा

20 साल की लड़की, जो भारत में कोरोना वायरस की पहली पॉजिटिव पेशेंट निकली थी, वो पूरी तरह ठीक हो गई है। केरल के त्रिशूर मेडिकल हॉस्पिटल में भर्ती इस लड़की की जांच में कोरोना वायरस अब नेगेटिव पाया जा चुका है। वो घर भी आ गई हैं। लड़की ने बताया कि जब वो आइसोलेशन वार्ड में थीं, तब डॉक्टर रोज़ उनके पहने हुए कपड़े जला देते थे।

कहते थे कि अपना फोन बिलकुल साफ़ रखना है। यही नहीं, आइसोलेशन वार्ड में बिलकुल अलग-थलग रहने पर अगर बेचैनी या अजीब सा लगता था, तो उन्हें सांस लेने की एक्सरसाइज कराई जाती थी।

दिल्ली के पहले कोरोना पॉजिटिव मरीज रोहित दत्ता ठीक होकर अस्पताल से घर जा चुके हैं। रोहित दत्ता वे पहले शख्स हैं, जिन्हें दिल्ली में कोरोना पॉजिटिव पाया गया। उन्होंने आजतक से फोन पर बात करते हुए अपने अनुभव को साझा किया।

उन्होंने बताया, आइसोलेशन वार्ड कोई काल-कोठरी नहीं है। सरकार ने सभी सुविधाएं की हुई हैं, जिसे भी खांसी-जुकाम हो चेक करवाए। उन्होंने बताया, होली के दिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने खुद वीडियो कॉल कर बात की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »