नींबू को चेहरे पर लगाने से होता है एजिंग की परेशानी दूर

नींबू गुणों की खान है। नींबू का उपयोग न सिर्फ खाने में किया जाता है बल्कि कई बीमारियों का इलाज करने में भी किया जाता है। चेहरे पर नींबू का इस्तेमाल करने से तैलीय त्वचा की समस्या नहीं होती और त्वचा पर निखार लाने में मदद मिलती है। चेहरे की झाइयां, झुर्रियां, सन टैन आदि समस्या को कम करने के लिए नींबू बेहद फायदेमंद उपाय माना जाता है। इसका सकारात्मक्क परिणाम मिलने के बाद यकीन मानिए आप नींबू को इस्तेमाल करने का सुझाव औरों को भी जरूर देंगे।

चेहरे पर नींबू का इस्तेमाल करने से त्वचा तैलीय नहीं होती। त्वचा पर सीबम के अधिक उत्पादन से स्किन ऑयली हो जाती है और ऐसे में नींबू तैलीय त्वचा से लड़ने में मदद करता है। नींबू में एस्ट्रिजेंट होते हैं जो चेहरे को ऑयली नहीं होने देते। नींबू लगाने से त्वचा के बड़े छिद्र सिकुड़ जाते हैं और इस तरह त्वचा ऑयली नहीं होती।

नींबू में प्राकृतिक एस्ट्रिजेंट होते हैं जो चेहरे को निखारने और गोरा बनाने में मदद करते हैं। जब आप नींबू के जूस का इस्तेमाल करते हैं तो इससे त्वचा ड्राई हो जाती है और स्किन भी टाइट लगने लगती है। नींबू के उपयोग से बड़े छिद्र सिकुड़ जाते हैं और सीबम का उत्पादन भी संतुलित हो जाता है, त्वचा तैलीय नहीं होती, ब्लैक हेड्स, व्हाइटहेड्स और मुहांसों की समस्या भी दूर हो जाती है।

ब्लैकहेड्स त्वचा के छिद्रों पर तेल, अशुद्धियों और बैक्टीरिया के आने से शुरू होते हैं। भाप की मदद से आप अशुद्धियों को निकाल सकते हैं और फिर एक नींबू को आधा काटकर उसे प्रभावित क्षेत्र पर रगड़ें। अब चेहरे को धोएं और फिर खुले छिद्रों पर बर्फ के टुकड़े को रगड़ें। इस उपाय को हफ्ते में एक बार दोहराएं और चेहरे को मुलायम व ब्लैकहेड्स से मुक्त करें।

विटामिन सी एजिंग को कम करने के लिए बहुत ही बेहतरीन सप्लीमेंट माना जाता है। एजिंग को दूर करने के लिए आप नींबू के जूस और शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं। साथ ही इसमें दालचीनी, जायफल पाउडर, जैतून के तेल को भी मिलाया गया है। जायफल पाउडर रक्त प्रवाह में सुधार करता है जबकि नींबू का जूस त्वचा को जवान बनाने में मदद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »