स्‍मार्टफोन भी बना सकता है आपको अंधा, जानिए कैसे

आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर में तीन दोष होते है वात, पित्त, कफ। यह संतुलित अवस्था में रहते है तो शरीर स्वस्थ एवं निरोगी रहता है। अनुचित आहार एवं जीवनशैली से यह असंतुलित होकर रोगों को जन्म देते है। शरीर में दर्द का कारण वात दोष को बताया गया है अत जीवनशैली एवं खानपान में गड़बड़ी के कारण तीनो दोष विकृत अवस्था में होकर आँखों के दर्द का कारण बनते है। इसमें मुख्यत वात दोष की वृद्धि होती है, यदि दर्द के साथ जलन और लालिमा है तो वह पित्त दोष के कारण होता है। आयुर्वेदीय उपचार द्वारा बढ़े हुए दोष घटाकर और कम करते हुए दोषों को बढ़ाकर दोषों को समान अवस्था में लाया जाता है और रोग को शान्त किया जाता है।

आँखों में दर्द भी कई तरह के होते हैं

●आँखों के भीतरी भाग में दर्द होना, इससे आँखों में एक तरह का स्पन्दन और किरकिरी महसूस होती है।

धूल-मिट्टी के सम्पर्क में आने के कारण से होने वाला दर्द। इसमें आँखों में खुजली एवं लालिमा आ जाती है।

चोट लगने के कारण होने वाला दर्द। यह दर्द बहुत तेज एवं जलन के साथ उठता है।

●अंजनामिका (Sty) होना, यह आमतौर पर आँखों के अन्दरुनी भाग के किनारों पर होता है। इस स्थिति में आँखों में लगातार दर्द होता है तथा आँख खोलने और बन्द करने में भी बहुत परेशानी होती है।

●कान्टेक्ट लेन्स के कारण होने वाला दर्द, लम्बे समय तक लगातार कान्टेक्ट लेन्स पहनने से कभी-कभी आँखों में दर्द एवं जलन होने लगती है।

ग्लूकोमा यानी काला मोतिया एक गंभीर नेत्र रोग है। इसके कारण भी आँख में दर्द होता है।

●आँखों में दर्द के कारण

●आँखों में दर्द के जितने प्रकार होते हैं उतने ही कारण भी होते हैं। चलिये देखते हैं कि वह कौन-कौन से हैं-

●आँखों के भीतरी भाग में दर्द होना, इससे आँखों में एक तरह का स्पन्दन और किरकिरी महसूस होती है।

धूल-मिट्टी के सम्पर्क में आने के कारण से होने वाला दर्द। इसमें आँखों में खुजली एवं लालिमा आ जाती है।

चोट लगने के कारण होने वाला दर्द। यह दर्द बहुत तेज एवं जलन के साथ उठता है।

●अंजनामिका होना, यह आमतौर पर आँखों के अन्दरुनी भाग के किनारों पर होता है। इस स्थिति में आँखों में लगातार दर्द होता है तथा आँख खोलने और बन्द करने में भी बहुत परेशानी होती है।

●कान्टेक्ट लेन्स के कारण होने वाला दर्द, लम्बे समय तक लगातार कान्टेक्ट लेन्स पहनने से कभी-कभी आँखों में दर्द एवं जलन होने लगती है।

ग्लूकोमा यानी काला मोतिया एक गंभीर नेत्र रोग है। इसके कारण भी आँख में दर्द होता है।

●ऐसा नहीं है कि केवल आँख का पॉवर बढ़ने पर ही आँखों में दर्द होता है। यह भी आँख में दर्द का एक कारण है परंतु कई बार अन्य कारण जैसे आँखों में किसी प्रकार का संक्रमण या चोट लगना, धूल-मिट्टी का सम्पर्क होने के कारण भी आँखों में दर्द होता है।

●आँखों में दर्द के लक्षण

●आँखों में दर्द होना बहुत कष्टकारक होता है तथा इसके कारण व्यक्ति कोई भी काम नहीं कर पाता। आँख में दर्द के साथ अन्य लक्षण भी देखे जाते है जैसे- प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता, आँखों में लाली, जलन, पानी बहना और सिर में दर्द। हालांकि यह दर्द ज्यादातर उन लोगों में होता है जो ज्यादा पावर का चश्मा पहनते है पर कई बार सामान्य रूप से भी आँखों पर ज्यादा जोर देने से या कईं घंटो तक टी.वी. और कम्प्यूटर के सामने बैठे रहने से भी आँखों में दर्द हो जाता है। आँखों में होने वाला दर्द कई बार सिर दर्द के साथ होता है तथा कभी-कभी आँखों के साथ सिर के अगले हिस्से एवं माथे में भी दर्द होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »