श्री कृष्ण का पहरेदार, दुनिया का इकलौता शुद्ध शाकाहारी मगरमच्छ जानिए कैसे

मगरमच्छ, पानी में रहने वाला एक खतरनाक जानवर, जो एक इंसानी शरीर को बिना चबाए आराम से निगल सकता है और जिसके शरीर के ऊपर की त्वचा इतनी सख्त होती है कि इस पर बंदूक की गोली का भी कोई असर नहीं होता है. जंगलों में पानी अथवा पानी के बाहर सतह पर दूसरे प्राणियों का शिकार करके यह अपना जीवन यापन करता है.

लेकिन आज हम जिस मगरमच्छ के बारे में बात करने वाले हैं वह दुनिया का इकलौता शुद्ध शाकाहारी मगरमच्छ है यह जानकर आपको हैरानी जरूर होगी. लेकिन,दोस्तों यह सच है.

केरल के कासरगोड जिले में भगवान विष्णु के अवतार श्री अनंत पदमनाभ स्वामी का मंदिर है. इसी मंदिर के किनारे बनी झील में रहता है यह शाकाहारी मगरमच्छ जिसका नाम है “बबिया“.

बबिया मगरमच्छ खाने में केवल मंदिर का बना प्रसाद ही खाता हैै. इसके अलावा कुछ नहीं खाता. इस झील में उसके साथ रहने वाली मछलियाँ उससे बिल्कुल भी भयभीत नहीं होती है बल्कि आराम से बिना किसी डर के उसके पास तैरती है.

अनंत पदमनाभ स्वामी मंदिर
तिरुवंतपुरम में श्री अनंत पदमनाभ स्वामी का एक बहुत विशाल एवं भव्य मंदिर है. लेकिन, स्थानीय लोगों के अनुसार, अनंतपुर में स्थित मंदिर ही श्री अनंत पदमनाभ स्वामी का मूल स्थान है.

अनंतपुर में यह मंदिर करीब 2 एकड़ जितनी जगह में फैला हुआ है. और इस मंदिर के पास में एक झील भी है.

पौराणिक कथाओं के अनुसार प्रभु अनंत पद्मनाभस्वामी इसी झील के अंदर स्थित एक गुफा से होकर तिरुवंतपुरम गए थे. इसी वजह से दोनों जगहों का नाम मिलता जुलता ही है.

मंदिर से जुड़ी पौराणिक कथा
मंदिर में पूजा करने वाले पुजारियों के अनुसार, लगभग 3000 साल पहले दिवाकर मुनि विल्व मंगलम स्वामी अनंतपुर के इसी मंदिर मे रहकर विष्णु भगवान की पूजा किया करते थे.

उनकी पूजा से प्रसन्न होकर एक दिन विष्णु भगवान स्वयं एक छोटे बालक के रूप में उनके सामने प्रकट हुए एवं उनके साथ इसी आश्रम में रहने लगे.

धीरे धीरे यह बालक विल्व मंगलम स्वामी के साथ घुल मिल गया एवं वह आश्रम की कार्यों में भी मुनि का हाथ बटाने लगा.

समय बीतता गया और एक दिन जब विल्व मंगलम स्वामी अपने दैनिक पूजा का कार्य कर रहे थे. उस समय वह बालक उनके कार्य में विघ्न उत्पन्न कर रहा था.

इस बात से परेशान होकर उन्होंने उस बालक को डाँटा और उसे पीछे की ओर धकेल दिया.

मुनि के इस व्यवहार से आहत होकर वह बालक यह कहते हुए पास स्थित झील मे अदृश्य हो गया कि, जब भी विल्व मंगलम स्वामी उनसे मिलना चाहे वे अनंतकट, के जंगलों में उन्हें पाएंगे.

जब तक मुनि को अपनी भूल का एहसास हुआ कि, जिस नन्हे बालक को उन्होंने डांटा है वह स्वयं भगवान विष्णु का रूप है. तब तक बहुत देर हो चुकी थी. और वह बालक झील मे बनी गुफा मे अद्रश्य चुका था.

झील मे बनी गुफा
विल्व मंगलम स्वामी स्वयं से हुई भूल का पश्चाताप करने के लिए एवं श्री कृष्ण भगवान से माफी मांगने के लिए उसी गुफा में प्रवेश करते हैं. और वे गुफा के दूसरी ओर समुद्र के पास में निकलते हैं. वहां पर वह देखते हैं कि समुद्र में स्वयं भगवान विष्णु विराजमान है उनके चारों और विशाल नाग लिपटे हुए हैं. उन्हें प्रणाम करके वे अपने से हुई भूल की माफी मांगते हैं.

बबिया मगरमच्छ के अस्तित्व का इतिहास
स्थानीय पुजारियों के अनुसार बबिया मगरमच्छ उसी गुफा में रहता है जहां पर भगवान श्री विष्णु के बाल अवतार श्री कृष्ण अदृश्य हुए थे.

उनके अनुसार बबिया मगरमच्छ श्री कृष्ण के द्वार की पहरेदारी करता है.

बबिया के बारे में सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि यह शुद्ध शाकाहारी मगरमच्छ है. मंदिर के पुजारियों द्वारा इसे दिन में दो बार चावल का प्रसाद भोजन के रूप में दिया जाता है.

मंदिर में पूजा करने वाले चंद्र प्रकाश जी के अनुसार वे पिछले 10 सालों से बबिया को भोजन करा रहे हैं. वे कहते हैं कि वे प्रतिदिन 1 किलो चावल स्वयं अपने हाथों से बबिया को खिलाते हैं.

और वह बिना उन पर आक्रमण किए या तालाब की अन्य मछलियों पर आक्रमण किए, प्रसाद का भोजन करता है एवं अपनी गुफा में चला जाता है.

बबिया पिछले 75 सालों से इसी झील में रह रहा है.

बबिया का इतिहास
स्थानीय लोगों के अनुसार लगभग 75 साल पहले एक ब्रिटिश सैनिक ने बबिया से पहले इस गुफा की सुरक्षा कर रहे मगरमच्छ को मार दिया था.

इस घटना के कुछ दिनों बाद ही उसे सैनिक की रहस्यमयी ढंग से सांप के काटने के कारण मृत्यु हो गई. स्थानीय लोगों का मानना है कि सर्प देवता ने उसे उसके अपराध की सजा दी है.

पहले वाले मगरमच्छ की मृत्यु हो जाने के बाद बबिया मगरमच्छ उसकी जगह पर उस गुफा की पहरेदारी करने के लिए उपस्थित हो गया.

ऐसा हर बार होता है, जब भी गुफा की सुरक्षा में लगा हुआ मगरमच्छ मृत्यु को प्राप्त होता है. उसकी जगह पर दूसरा मगरमच्छ अपने आप ही उसका स्थान ले लेता है यह कहां से आते हैं कोई नहीं जानता.

यहां पर ऐसी मान्यता है कि अगर आप इस झील में बबिया मगरमच्छ को तैरता हुआ देख लेते हैं तो आपकी किस्मत बदल सकती है. बबिया अच्छे भाग्य का प्रतीक माना जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »