शादी के कुछ सालों बाद क्यों औरतों का स्वभाव हो जाता है गुस्सैल

किसी पुरुष या स्त्री के जीवन में शादी के बाद काफी बदलाव आ जाते हैं। स्त्रियों की जीवन में तो काफी बदलाव आ जाते हैं। लड़कियां अपने मां-बाप की प्यारी गुड़िया से बदलकर ससुराल की जिम्मेदारियां निभानी होती है। कुछ लड़कियां तो यह जिम्मेदारी आसानी से निभा देती है।

परंतु अधिकतर लड़कियां इस जिम्मेदारी को निभा नहीं पाती जिसके कारण इन लड़कियों का स्वभाव स्वभाव चिड़चिड़ा व गुस्सैल हो जाता है। धीरे-धीरे ऐसी लड़कियां अपना आत्मविश्वास खोने लगती है और मानसिक बीमारियों की शिकार हो जाती हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे कारण बताने जा रहे हैं जिनके कारण स्त्रियों का स्वभाव शादी के बाद परिवर्तित हो जाता है।

ससुराल का माहौल बदला हुआ होता है

हर मां-बाप अपनी लड़की की शादी के लिए सम्य और समृद्ध परिवार ढूंढते हैं। जिस परिवार के साथ लड़की ने अपनी जिंदगी के 25 अथवा 30 साल बिताए होते हैं उसे छोड़ कर उसे नए माहौल में आना होता है। कोई भी लड़की अपने मायके के रिश्तो को भूल नहीं पाती है। ससुराल जाकर उसके रिश्ते बिल्कुल ही बदल जाते हैं। लड़कियों के लिए यह बदलाव गुस्से पर और चिचड़पन का कारण बन सकता है।

अपनेपन की चाहत

हर लड़की अपने ससुराल में अपने मां बाप और भाई बहन जैसा प्यार और अपनेपन को ढूंढती है। परंतु ससुराल में उसे यह नसीब नहीं होता है। इसी कारण धीरे-धीरे उसका चिड़चिड़ापन बढ़ता जाता है। क्योंकि वह लड़की शादी के बाद अपने पिता के घर से जो उम्मीद लगाकर आई होती है वह पूरी नहीं होती है। इस कारण पति-पत्नी में लड़ाई झगड़े बढ़ते जाते हैं।

ख्वाइशें अधूरी रह जाना

हमारे देश में हर लड़की के लिए विवाह आवश्यक माना जाती है। हर मां-बाप को यह चिंता होती है कि वह लड़की की शादी नहीं करेंगे तो लोग क्या कहेंगे। जिसके कारण लड़कियों के सपने और इच्छाएं मायके में अधूरी रह जाती हैं। इसके बाद लड़कियां यह सोचती है कि वे अपनी ख्वाहिशे अपने ससुराल में पूरी करेंगे। परंतु वहां पर भी उनको किसी का सपोर्ट नहीं मिलता है। इसके कारण लड़कियों के स्वभाव में चिड़चिड़ापन आने लगता है।

पर्सनल टाइम आवश्यक

मैरिड कपल को विवाह के बाद एक दूसरे को जानने और समझने के लिए थोड़ा से समय की आवश्यकता होती है। परंतु ससुराल की रीति रिवाज और जिम्मेदारियों के कारण उन्हें यह समय नहीं मिल पाता है। जिसके कारण लड़कियां गुस्सैल स्वभाव की हो जाती हैं।

जिंदगी का बदल जाना

हर महिला की विवाह के बाद जीवन शैली और दिनचर्या बदल जाती है। उन्हें अपने रहन-सहन खानपान में बदलाव करने पड़ते हैं। जो लड़की पहले मॉडर्न ड्रेस पहनती थी अब उसे साड़ी अथवा सूट पहनना पड़ता है। जिसके कारण उसके जीवन में बदलाव आ जाता है। जिसके कारण उसे क्रोध आने लगता है।

विवाह के बाद लड़कियां इस बदलाव को अपने ससुराल वालों के सामने जाहिर नहीं होने देती है। अंदर ही अंदर घुटने के कारण उनके स्वभाव में चिड़चिड़ापन आने लगता है। इसे चिड़चिड़ापन से बचने के लिए महिलाओं को अपने पति से बात करनी चाहिए। घर में शांति बनाए रखने के लिए पतियों को भी उनकी बात को ध्यान से सुनना चाहिए। तभी आपका रिश्ता मजबूत हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »