लाल कपड़े को देखकर सांड को गुस्सा क्यों आता है?

आपने कई बार देखा या सुना होगा कि लाल रंग का कपड़ा देखकर सांड भड़क जाता है। वह इतना गुस्सा हो जाता है कि किसी को भी मारने पर उतारू हो जाता है। कई देशों में ऐसे खेल भी खेले जाते है, जहां लाल कपड़ा दिखाकर सांड को भड़काया जाता है और फिर एक इंसान द्वारा उसका सामना भी किया जाता है।

लाल रंग देखकर सांड इतना भड़क क्यूँ जाता है? क्या सांड लाल रंग से नफरत करते है या इसके पीछे कोई दूसरा कारण है? अगर आप नहीं जानते है तो कोई बात नहीं, आज आप जान जाएंगे।

सांड को लाल रंग देखकर गुस्सा आता है, ऐसा उन खेलों के आधार पर कहा जाता है, जिनमें सांड को लाल रंग का कपड़ा दिखाया जाता है। सांड लाल रंग देखकर भड़क जाता है, यह एक बहुत बड़ा मिथक है। असल में सांड लाल रंग देख ही नहीं पाता है। अन्य चौपाये पशुओं की तरह सांड कलर ब्लाइंड होते है, यानि कि लाल और हरे रंग को देख नहीं पाते है। जब सांड लाल रंग ही नहीं देख पाते है तो फिर लाल रंग देखकर भड़क जाने की बात महज एक मिथक है।

दरअसल सांड को लाल रंग देखकर गुस्सा नहीं आता है, बल्कि सांड को गुस्सा आता है उस हिलते हुए कपड़े को देखकर। जिस तरह से सांड के सामने लगातार उस कपड़े को हिलाया जाता है, उससे सांड खीज उठता है, गुस्से से आग बबूला हो जाता है, और किसी पर भी हमला करने के लिए उतारू हो जाता है।

अगर लाल रंग की जगह किसी और रंग का भी कपड़ा अगर सांड के सामने इस तरह हिलाया जाए तो सांड को गुस्सा जरूर आएगा। सांड के गुस्से का लाल रंग से ही जुड़ना इसलिए हुआ, क्यूंकि इन खेलों में सांड को भड़काने के लिए लाल रंग के कपड़े का इस्तेमाल किया गया है और लाल रंग के ही कपड़े का इस्तेमाल भी शायद इसलिए किया गया हो क्यूंकि लाल रंग गुस्से का प्रतीक होता है। ऐसे खेलों में अगर लाल की जगह किसी और रंग के कपड़े का इस्तेमाल किया गया होता तो सांड के गुस्से को किसी और रंग के साथ जोड़ दिया जाता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »