भारत का ऐसा कौन सा किला था जहाँ से चाँदी के गोले दागे गए थे ? क्लिक कर के जाने

चूरू राजस्थान का वह किला हैं जहां से चांदी के गोले बरसाए गए थे।।

चूरू का किला

इस किला का निर्माण ठाकुर कुशाल सिंह ने 1739 में करवाया था।1857 के विद्रोह में ठाकुर शिव सिंह ने अंग्रेजों का विरोध किया इस पर अंगेजों ने बिकानेर कि सेना लेकर चुरू दुर्ग को चारों और से घेर कर तोपों से गोला बारी की बरसात की।

जबाव में दुर्ग से गोले बरसाए गये लेकिन जब दुर्ग में तोप के गोले समाप्त होने गले तो लुहारों ने नये गोले बनाये।

लेकिन कुछ समय पश्चात गोला बनाने के लिए सीसा समाप्त हो गया। इस पर सेठ साहुकारों और जनसामन्य ने अपने घरों से चांदी लाकर ठाकुर को समर्पित किया।

लुहारों व सुनारों ने चांदी के गोले बनाये जब तोप से चांदी के गोले निकले तो शत्रु सेना हेरान हो गयी। और जनता की भावनाओं का आदर करते हुए दुर्ग का घेरा हटा लिया।

इस पर एक लोकोक्ति प्रचलित है –

धोर ऊपर नींमड़ी धोरे ऊपर तोप।

चांदी गोला चालतां, गोरां नाख्या टोप।।

वीको-फीको पड़त्र गयो, बण गोरां हमगीर।

चांदी गोला चालिया, चूरू री तासीर।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »