बेकिंग पाउडर क्या है? बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा के बीच क्या अंतर है?

बेकिंग सोडा सोडियम बाइकार्बोनेट जो नमी और खट्टे पदार्थों से रियेक्सन करके कार्बन डाइआक्साइड गैस निकालते हैं। ये गैस एअर बबल के रूप में खाने में जमा होकर रैसिपी को स्पंजी बनाती हैं। बेकिंग सोडा को सक्रिय होने के लिये दही, छाछ आदि खट्टे पदार्थ की आवश्यकता होती है। इसलिये जिस रेसीपी में खट्टा पदार्थ नहीं है वहां सिर्फ बेकिंग सोडा मिलाने से काम नहीं चलता।

खाना सोडा या बेकिंग सोडा से नमी के मिलते ही तुरन्त रिएक्शन शुरू हो जाता है। इसी लिये खाने में सोडा डालने के बाद मिश्रण को तुरन्त पकाने या बेक करने के लिये रखना चाहिये। अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो ये चीजें अच्छी तरह नहीं फूलती।

बेकिंग पाउडर-बेकिंग पाउडर में एसिडिक मीडियम मिले होते हैं। जब इसे खाने में मिलाया जाता है तो यह स्वयं काम करना शुरू कर देता है। जो रेसीपी खट्टी नहीं है वहां भी बेकिंग पाउडर प्रयोग किया जा सकता है। आजकल प्रयोग में लाये जाने वाला बेकिंग पाउडर डबल एक्शन होता है। पहला एक्शन यह तब करता है जब यह नमी के संपर्क में आता है। दूसरा तब करता है जब यह गर्मी के संपर्क में आता है। जब रेसीपी ओवन में रखी जाती है। इससे पहले बने बबल और बड़े हो जाते हैं और रैसिपी ज्यादा स्पंजी बनती है। दो तरह से काम करने के कारण रैसिपी का मिश्रण तैयार करने के बाद 15 मिनिट रखकर भी बेक किया जा सकता है। अधिक समय तक बेक की जाने वाली रेसीपी में बेकिंग पाउडर डाला जाता है।

ये है दोनों में अंतर

1-) अधिक समय तक गर्मी में रखे रहने के कारण बेकिंग सोडा काम करना बन्द कर देता है। बेकिंग पाउडर में मिला अन्य तत्व क्रीम आफ टार्टार काम करते रहते हैं। इसलिये केक, मफ्फिन, कुकीज आदि में यदि खट्टे पदार्थ हों तब भी हम बेकिंग पाउडर का प्रयोग करते हैं।

2-) जिन चीजों को बनाने में नमी या पानी की जरूरत होती है वहां बेकिंग सोडा प्रयोग में लाया जाता है। अक्सर लोग सोडा वाटर का भी प्रयोग करते हैं। बेकिंग सोडा की जगह बेकिंग पाउडर प्रयोग में लाया जा सकता है। पर बेकिंग पाउडर की जगह पर आप बेकिंग सोडा का प्रयोग नहीं कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »