बाल क्यों झड़ते हैं? बिना कारण जाने उपचार कैसे संभव है?

आयुर्वेद के अनुसार बालों का झड़ना “वात-असंतुलन” के कारण होता है। “वात-असंतुलन” का कारण……..:-

अपच या कब्ज
मानसिक चिंता व तनाव
अनियमित दिनचर्या
मादक पदार्थों का सेवन जैसे सिगरेट अल्कोहल शराब इत्यादि
काफी चाय जैसे खाद्य पदार्थों का अत्यधिक सेवन

“वात-असंतुलन” के कारण बाल…….:-

सूखे- रूखे
कमजोर
जड़ कमजोर होना
त्वचा में रूसी
बालों का झड़ना
आदि समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। जिससे “पित्त-असंतुलन” हो जाता है।

आयुर्वेद का उपचार 5 महत्वपूर्ण चरणों में होता है :

औषधि ,कमी, पोषण, शुद्धि, और शांति। उपचार के द्वारा शरीर से ‘विषाक्त’ पदार्थों को खत्म किया जाता है, जिसे निदान कहते हैं। आहार या भोजन द्वारा, शरीर में ‘पोषक-तत्वों’ की कमी को पूरा किया जाता है। चिकित्सा के माध्यम से ‘जैविक उपचार’ व ‘सौंदर्यीकरण’ किया जाता है।

इसके लिए विभिन्न प्रकार के ‘हेयर-मास्क’ आयुर्वेद में उपलब्ध हैं। जो पूर्णता जड़ी बूटियों व पेड़ पौधों से प्राप्त किए जाते हैं। हजारों साल से इनका नियमित इस्तेमाल हो रहा है। “शैंपू” भी “भारतीय” आयुर्वेद की देन है। यह जानकारी आपको ‘गर्व’ से भर देगी।

हालांकि कई बड़े ब्रांड ‘आयुर्वेद’ के आधार पर प्रोडक्ट बनाकर बेच रहे हैं। फिर भी जहां तक हो सके, प्राकृतिक रूप में ही इन पदार्थों का उपयोग किया जाए। वह सबसे बेहतर होता है। क्योंकि पैकिंग करने हेतु उसमें चाहे ना चाहे, जड़ी-बूटियों की गुणवत्ता से कंप्रोमाइज होने की संभावना रहती है। तथा केमिकल्स इत्यादि का प्रयोग उसमें किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »