प्राचीन काल में ऋषि मुनि तपस्या करते हुए हजारों साल कैसे जी जाते थे?

1 ) सतयुग में 1 लाख वर्ष की आयु हुआ करती थी।

2 ) त्रेतायुग में 10 हजार वर्ष की आयु हुआ करती थी।

3) द्वापरयुग में 1 हजार वर्ष की आयु हुआ करती थी।

4 ) कलयुग में 100 वर्ष की आयु हुआ करती है।

यही कारण है हमारे ऋषि मुनियों ने कई हजार वर्षों तक तपस्यारत रहते थे।

तपस् या तप का मूल अर्थ था प्रकाश अथवा प्रज्वलन जो सूर्य या अग्नि में स्पष्ट होता है। किंतु धीरे-धीरे उसका एक रूढ़ार्थ विकसित हो गया और किसी उद्देश्य विशेष की प्राप्ति अथवा आत्मिक और शारीरिक अनुशासन के लिए उठाए जानेवाले दैहिक कष्ट को तप कहा जाने लगा।
मैं इसी कलयुग की एक छोटी सी कहानी सुनाता हूँ महान संत ज्ञानेश्वर महराज की, जिन्होंने योग के बल पर सैकड़ो साल जीने वाले चांगदेव का अभिमान भंग किया था।
चांगदेव महाराज सिद्धि के बलपर १४०० वर्ष जीए थे ।उन्होंने मृत्यु को ४२ बार लौटा दिया था । उन्हें प्रतिष्ठा का बडा मोह था ।
उन्हों ने सन्त ज्ञानेश्वर की कीर्ति सुनी; उन्हें सर्वत्र सम्मान मिल रहा था । चांगदेव से यह सब सहा न गया, वे ज्ञानेश्वर से जलने लगे । चांगदेव को लगा, ज्ञानेश्वरजी को पत्र लिखूं । परन्तु उन्हें समझ नहीं रहा था कि पत्र का आरम्भ कैंसे करें । क्योंकि, उस समय ज्ञानेश्वर की आयु केवल सोलह वर्ष थी । अतः, उन्हें पूज्य कैंसे लिखा जाए ? चिरंजीव कैंसे लिखा जाए; क्योंकि वे महात्मा हैं । क्या लिखेंं, उन्हें कुछ समझ नहीं रहा था । इसलिए, कोरा ही पत्र भेज दिया ।
सन्तों की भाषा सन्त ही जानते हैं । मुक्ताबाई ने पत्र का उत्तर दिया – आपकी अवस्था १४०० वर्ष है । फिर भी, आप इस पत्र की भांति कोरे हैं !
यह पत्र पढकर चांगदेव को लगा कि ऐसे ज्ञानी पुरुष से मिलना चाहिए । चांगदेव को सिद्धि का गर्व था । इसलिए, वे बाघपर बैठकर और उस बाघ को सर्प की लगाम लगाकर ज्ञानेश्वरजी से मिलने के लिए निकले ।
जब ज्ञानेश्वरजी को ज्ञात हुआ कि चांगदेव मिलने आ रहे हैं, तब उन्हें लगा कि आगे बढकर उनका स्वागत-सत्कार करना चाहिए । उस समय सन्त ज्ञानेश्वर जिस भीत पर (चबूतरा) बैठे थे, उस भीत को उन्होंने चलने का आदेश दिया । भीत चलने लगी । जब चांगदेव ने भीत को चलते देखा, तो उन्हें विश्वास हो गया कि ज्ञानेश्वर मुझसे श्रेष्ठ हैं । क्योंकि, उनका निर्जीव वस्तुओंपर भी अधिकार है । मेरा तो केवल प्राणियोंपर अधिकार है । उसी पल चांगदेव ज्ञानेश्वरजी के शिष्य बन गए ।
कहने का आशय यह है कि मनुष्य योग और तप के बल से उम्र बढ़ाने की सिद्धि प्राप्त कर सकता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »