पाई-पाई को मोहताज अमिताभ बच्चन ने पांच बंगले कैसे खरीद लिए? जानिए

सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन” की बतौर नायक फिल्मी करियर की शुरुआत फिल्म -”सात हिन्दुस्तानी” से हुई, मगर इस फिल्म ने अपने साथ दर्जन भर और फ्लॉप फिल्में जोड़ लीं । अमिताभ पर फ्लॉप हीरो का तमगा लग गया और उन्होने यह घोषणा कर दी की अगर अगली फिल्म फ्लॉप हुई तो वे फिल्मों से सन्यास ले लेंगे । संयोग कहें या किस्मत अगली “ज़ंजीर” फिल्म हिट साबित हुई और इस फिल्म ने अमिताभ को बचा लिया । फिर डॉन, दीवार, और शोले जैसी कई हिट फिल्में आईं ।

उसके बाद उन्होने 1995 में ‘एबीसीएल(अमिताभ बच्चन कॉर्पोरेशन लिमिटेड)’ नाम की फिल्म प्रोडक्शन और इवेंट मैनेजमेंट कंपनी की शुरुआत की। कंपनी के फेल होने के बाद अमित जी को काफी नुकसान हुआ और इनपर लगभग 90 करोड़ का कर्जा हो गया । ऐसा माना जाता है की अमिताभ ने जिन लोगों पर विश्वास करके कंपनी के मैनेजमेंट का भार सौंपा था उन्होने ही कंपनी को डुबो दिया । इस दौरान अदालत ने अमिताभ पर 55 केस भी ठोक दिये। अब संपति के नाम पर इनके पास केवल एक घर बच गया था जिसपर पहले से ही “कुर्की “का आदेश था । आर्थिक रूप बेहद खराब स्थिति के चलते अमिताभ डिप्रेशन के शिकार हो गए ।

इसी उलझन के चलते उन्होंने कोई भी छोटी-बड़ी फिल्म के साथ छोटे पर्दे पर भी काम करना शुरू कर दिया। तब छोटे पर्दे का “कौन बनेगा करोड़पति” शो उनके लिए लकी साबित हुआ , इस.शो के जरिये अमिताभ ने जहां लोगों को करोड़पति बनने का मौका दिया वहीं खुद को कर्जे से बाहर निकालने की भरपूर संघर्ष भी की । इस आर्थिक तंगी में केबीसी के अलावा निर्देशक यश चोपड़ा ने उनकी मदद की उनके लिए फिल्म ‘मोहब्बतें’ बनाकर जो अमिताभ के लिए टर्निंग प्वॉइंट साबित हुई।

हिट होने के साथ अमिताभ ने प्रॉपर्टी पर ढेर सारा पैसा खर्च किया और कई बंगलों का निर्माण करवाया । जिसमे “प्रतीक्षा” पहला बंगला है जहां वे अपने माता-पिता के साथ रहते थे। “जलसा” निर्देशक रमेश सिप्पी द्वारा उनकी फिल्म ‘सत्ते पे सत्ता ’के मेहनताने और उपहार स्वरूप दिया था । “जनक” यह मीडिया और कार्यालीय उपयोग के लिए बनवाया गया। “वत्स ” नाम के बंगले को सिटी बैंक इंडिया को किराए पर दिया गया है, जो अन्य बंगलों से थोड़ा छोटा है। जलसा के पीछे भी एक नया बंगला बनाया गया है जिसे कोई नाम नहीं दिया गया है,इसे बच्चन परिवार के लिए जलसा का विस्तारित रूप कह सकते हैं ।

आज अमिताभ 1000 करोड़ से भी अधिक संपति के मालिक हैं। नोएडा, अहमदाबाद, गांधीनगर, पुणे और भोपाल के अलावे फ्रांस के ब्रिग्नोगन में भी इनके प्लॉट है। लखनऊ और बाराबंकी में कई कृषि योग्य जमीन है। आज भी अमिताभ एक फिल्मों के लिए 7-8 करोड़ और विज्ञापनों के लिए 5 करोड़ चार्ज करते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »