ज्यादातर लोग काल सेन्टर की नौकरी 1-2 महीने में ही क्यों छोड़ देते हैं? जानिए

1 जब दुनिया सो रही होती है तब कॉल सेंटर वाले जाग रहे होते हैं और जब दुनिया जग रही होती है तो ये लोग सो रहे होते हैं।

2 भविष्य की कोई ठोस गारंटी नहीं क्योंकि कोई खास कौशल इसमें चाहिए नहीं होता। बस कुछ भाषाओ का ज्ञान होना चाहिए। जैसे अंतरराष्ट्रिय कॉल सेंटर में नौकरी के लिए अङ्ग्रेज़ी आनी चाहिए और बाकी कॉल सेंटर जिन्हें डोमेस्टिक कॉल सेंटर कहा जाता है वहाँ आपको हिन्दी या फिर कोई अन्य भारतीय भाषा आनी चाहिए, बस!

3 कॉल सेंटर में आपको कॉलिंग या फिर चेट इन दोनों में से किसी माध्यम से ग्राहको से बात करनी होती है। अक्सर ऐसे ग्राहक मिल जाएंगे जिनसे बात करके आपका भेजा फ्राई हो जाएगा और कभी कभी ऐसे मिल जाएंगे जो गाली गलौज करने से भी बाज नहीं आएंगे। इन सब में सबसे खराब पक्ष ये है की आप उस ग्राहक को कुछ नहीं बोल सकते और आपको अपनी नौकरी बचाने के लिए चुप चाप गाली सुननी पड़ती है, नहीं तो नौकरी गयी। इस तरह ऐसा महसूस होगा की आपका आत्म सम्मान कहीं मर गया है।

4 ये सच है की कॉल सेंटर में सैलरी अच्छी मिलती है और ग्लेमर भी भरपूर देखने को मिलता है पर सैलरी हर जगह अच्छी नहीं हैं। अन्तराष्ट्रिय कॉल सेंटर में डोमेस्टिक से ज्यादा सैलरी होती है। कम उम्र के लड़के लड़कियां, आने जाने के लिए एसी गाड़ी, दो दिन की छुट्टी, ऑफिस में अच्छा खाना और पार्टियां ये सब यहाँ मिलता है, जो नए नए लड़के लड़कियों को आकर्षित करता है।

5 ये डाउन मार्केट जॉब्स में आती है, जहां सैलरी कम होती जा रही है और मेहनत ज्यादा इसलिए भी भविष्य इतना सुरक्शित नहीं। कॉल सेंटर को काम देने वाली कंपनियाँ अब अपना काम चाइना और फिलीपीन्स जैसे देशो को आउट सोर्स कर रही हैं, इसकी वजह वहाँ भारत से भी सस्ता लेबर होना है।

6 चूंकि कॉल सेंटर में अक्सर जवान लड़के लड़कियां ही काम करते हैं तो इसलिए आपने देखा होगा की कई लोग तो सिर्फ लाइन मारने और डेटिंग सेटिंग के चक्कर में ही जॉइन कर लेते हैं बस।

हाँ पर इनमें कुछ ऐसे होते हैं जो अपनी पढ़ाई या बिज़नस के लिए पैसा इकट्ठा करने के लिए ये काम करते हैं।

इसके अलावा कई युवा होते हैं जिन्हें उस फील्ड में जॉब नहीं मिलती जिसकी उन्होने पढ़ाई की है तो वे कॉल सेंटर ही जॉइन कर लेते हैं ताकि उनका खर्चा चल सके।

तो इसलिए मैं कहूँगा सब कुछ नकारात्मक ही नहीं हैं। ये सच है की इस नौकरी में वो सब परेशानियाँ है जो ऊपर मैंने बताई पर फिर भी नौकरी तो नौकरी होती है और कौन सी नौकरी में परेशानियाँ नहीं हैं। ये सब बातें अपने अनुभव से बता रहा हूँ, एक समय था जब मैंने भी कुछ पैसे जुटाने के लिए यहाँ काम किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »