खाली पेट पर तुलसी के पत्तों को चबाने के 8 स्वास्थ्य लाभ

अधिकांश भारतीय घरों में कम से कम एक तुलसी (तुलसी) का पौधा होना जाना जाता है। पवित्र तुलसी के कई लाभ हैं जैसे कि मतली, सामान्य सर्दी, बुखार के साथ-साथ मासिक धर्म में ऐंठन और यहां तक ​​कि मधुमेह में मदद करता है। यह कई भारतीय, इतालवी और भूमध्यसागरीय व्यंजनों में एक प्रमुख घटक बन गया है क्योंकि इसकी गार्निशिंग गुण, पोषक तत्व, उच्च विटामिन और खनिज सामग्री है।

एक प्रसिद्ध मसाला, तुलसी, एंटीऑक्सिडेंट, विरोधी भड़काऊ, एंटी-फंगल और एंटीसेप्टिक गुणों से समृद्ध है। तुलसी के पत्तों को रोजाना खाली पेट खाने से इसके एंटीऑक्सिडेंट और न्यूट्रास्यूटिकल्स की उच्च सामग्री के कई लाभ होते हैं।

बुखार लग रहा है या नाक बह रही है? तुलसी मदद करेगी

तुलसी के पत्ते एंटी-माइक्रोबियल गुणों से भरपूर होते हैं जो आपको खांसी और आम सर्दी से राहत देंगे। तुलसी के पत्तों में मौजूद रस तापमान को नीचे लाने में भी अत्यधिक प्रभावी होते हैं।

वास्तव में, कई कफ सिरप में तुलसी के पत्ते और उनकी एक प्रमुख सामग्री होती है।

तो अगली बार जब आपको सर्दी हो, तो याद रखें कि तुलसी के पत्ते खाएं या उन्हें थोड़े से पानी में उबालें और पियें।

तनाव का अद्भुत समाधान

दिन-प्रतिदिन का जीवन कभी-कभी किसी व्यक्ति के लिए बहुत अधिक तनावपूर्ण हो सकता है। उस स्थिति में, खाली पेट दिन में दो बार 4-5 ताजा तुलसी के पत्तों का सेवन करने से आपकी इंद्रियां शांत हो जाएंगी।

तुलसी के पत्तों को एडाप्टोजेन माना जाता है जिसमें मजबूत तनाव-विघटन क्षमता होती है। वे शरीर को रक्त शुद्ध रखने में मदद करेंगे और आपको एक शांत और आराम की स्थिति देंगे।

आप अपने नहाने के पानी में तुलसी के पत्तों को ताज़ा स्नान के लिए भिगो सकते हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है

चूंकि तुलसी के पत्तों में एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटीबायोटिक गुण होते हैं, वे विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद करते हैं। तुलसी रक्त के शुद्धिकरण में सहायक होती है जिससे संक्रमण और बीमारियों से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली का निर्माण होता है।

यह साबित होता है कि तुलसी के पत्ते साइटोकिन्स, हिस्टामाइन, इम्युनोग्लोबुलिन और फागोसाइट्स के स्राव को नियंत्रित करके प्रतिरक्षा को बढ़ाते हैं।

तुलसी के फायदों का लाभ उठाने के लिए रोजाना 5-6 पत्ते चबाएं या उन्हें रात भर पानी में भिगोकर रखें और सुबह पानी पिएं।

पेट की समस्याओं का इलाज करता है और आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है

तुलसी के पत्ते बहुत बढ़िया होते हैं जब पेट में दर्द और ऐंठन का इलाज करने की बात आती है। तुलसी के पत्तों को रोजाना खाने से कब्ज, कब्ज, एसिडिटी और बवासीर से राहत मिलेगी।

जब एक खाली पेट पर सेवन किया जाता है, तो तुलसी के पत्ते पीएच स्तर को बनाए रखने और अम्लता को नियंत्रण में रखने में मदद करते हैं।

यह पाचन तंत्र और पाचन चयापचय में चीजों को प्रवाहित रखने में मदद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ads by Eonads
Translate »