क्या आप भी अपनी उंगलियां चटकाते है तो हो जाइए सावधान

हमें अपनी जिंदगी में कुछ आदतें सामान्य लगती हैं। परंतु हमारी उम्र बढ़ने के साथ-साथ यह आदतें हमें भारी पड़ने लगती है। जिसमें से एक आदत है अपने हाथ की उंगलियों को चटकाना। 

जब हम अपने हाथ की उंगलियों को खींचते हैं तो जोड़ों के बीच के बुलबुले फूट जाते हैं। जिससे हड्डियों के चटकने की आवाज आती है। दुबारा इन बुलबुलों को बनने के लिए 20 से 30 मिनट का समय लगता है। इसलिए जब एक बार हड्डियां चटख जाती है तो दुबारा उसमें आवाज नहीं आती है।

जब हड्डियों को बार-बार दिखाया जाता है। जोड़ों की बीच की पकड़ धीरे-धीरे कमजोर होने लगती है। हड्डियों के बीच के ऊतक भी धीरे-धीरे नष्ट होने लगते हैं। आइए हम जानते हैं कि हड्डियों का चटकाना हम कैसे खत्म कर सकते हैं।

व्यस्त रखें हाथों को : 

यदि आपको उंगलियों को चटकाने के लिए स्वयं को रोकना है तो आपको अपने आप को किसी ना किसी काम में व्यस्त रखना चाहिए। जब आपके हाथ खाली हो तो अपने आसपास राखी किसी भी वस्तु से खेलना प्रारंभ कर देना चाहिए। जिससे आपका ध्यान उंगलियों को चटकाने से हट जाए।

आप अपने ऑफिस में बैठे हो। तो आपको अपनी कलम उठा कर या तो कुछ लिखना प्रारंभ कर देना चाहिए अथवा कोई भी चित्र बनाने लगना चाहिए। इससे आपका ध्यान उंगलियों को चटकाने पर नहीं लगेगा। धीरे-धीरे आपसे यह आदत छूट जाएगी

फोकस करे खुद पर

उंगलियों को चटकाना एक बुरी आदत है। यह आपकी कमजोर आत्मविश्वास की निशानी भी है। यदि आपने अपनी इस आदत को नहीं रोका तो आपको गठिया आदि रोग भी हो सकते हैं। हमारी उंगलियों में कितना भी दर्द हो रहा हो हमें उंगलियों को नहीं चिटकाना चाहिए। अपने आप पर हर समय फोकस करना चाहिए यह हम अनजाने में कहीं अपनी उंगली तो नहीं चिटका रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »