क्या आप जानते हैं, पास्ता क्यों इतना पसंद किया जाता है जानिए

भागदौड़ भरी जिंदगी में हम अपना हर काम बस जल्दी में करना चाहते हैं। इसका असर रोजमर्रा के हर एक चीज और आदत के साथ साथ खाने पीने पर भी हुई है। हम पोस्टिक खाना से ज्यादा फास्ट फूड की ओर आकर्षित होते जा रहे हैं। पासपोर्ट के फायदे तो सीख लिया है, कि वह थोड़ा टेस्टी होता है। और साथी ही थोड़ा में ही पेट भर जाता है। पास्ता भी उन्हीं फर्स्ट फूड में से एक है। पास्ता ना जाने कितने लोगों के लिए नाश्ता का हिस्सा बन चुका है।

आज मैं आपको पास्ता से जुड़े कुछ रोचक जानकारियां बताने जा रहा हूं। चलिए पहले यह जान लेते हैं, पास्ता का शुरुआत कहां से हुआ है। पास्ता एक इटालियन फूड का प्रकार है। यह भी एक तरह का नूडल का ही हिस्सा है। जो इटालियन लोगों के लिए उनका मुख्य भोजन है। जैसे भारत में लोग रोटी और चावल के बिना नहीं रख सकते हैं। उसी तरह इटालियन पास्ता के बिना अधूरा है। ऐसा माना जाता है, पास्ता का उल्लेख सबसे पहले 1154 ईस्वी में एक पुस्तक में मिला था। पास्ता को भी गेहूं के आटे से ही बनाया जाता है।

वैसे तो पास्ता के मुख्य दो प्रकार होते हैं। एक सूखा और दूसरा ताजा।। लेकिन पूरे दुनिया में लगभग 600 प्रकार से पास्ता को बनाया जाता है। और इन सब का एक अलग अलग नाम भी होता है। उन्हीं में से तीन जो पूरे दुनिया में प्रसिद्ध है, उनका नाम है। पेने पास्ता, स्पेगेटी पस्ता और मैक्रोनी पास्ता सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। इनका प्रकार कुछ इस तरह है। कुछ लंबा पास्ता होते हैं, कुछ छोटे पास्ता होते हैं और कुछ अंडे वाला पास्ता होते हैं।

भारत में इन्हीं तीनों को ज्यादा खाया जाता है। जिस तरह पास्ता के प्रकार अलग-अलग है। उसी तरह इससे खाया भी अलग अलग तरीके से जाता है। जैसे कि कोई पास्ता को सोस के साथ खाना पसंद करते हैं। तो कोई इसका सूप बनाकर पीना पसंद करते हैं। कुछ लोग पास्ता को मीट के साथ भी खाना पसंद करते हैं। खाने का प्रकार और पास्ता के रंग रूप अलग-अलग भले है। लेकिन दुनिया भर में पास्ता को पसंद किया जाता है। एक शोध से पता चला है हर साल 1432500 टन से भी ज्यादा पास्ता बनाया जाता है।

पास्ता खाने में भी अच्छा होता है और यह ज्यादा महंगे भी नहीं होते हैं। यही वजह है कि पास्ता आज पूरे दुनिया में अपनी जगह बना कर लोगों के दिल पर राज करता है। लोगों के नाश्ता और भोजन के हिस्सा बन चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »