कुछ पौधों की पत्तियों व तने से दूध जैसा चिपचिपा पदार्थ क्यों निकलता है? जानिए वजह

इसे लेटेक्स latex कहते है। शुगर, स्टार्च, प्रोटिन, एल्कलॉइड, टे निन, गोंद, रेजिन आदि पदार्थों का emulsion होता है। पेड़/पौधे के अंदर विशेष कोशाएं,latcifers होती है इनमें यह बनता है। कुछ पेड़ो/पौधों में ये कोशाएं एक के बाद एक जुड़कर, मध्य भित्ति नष्ट होने पर वाहिकाएं बनती है। इनमें लेटेक्स एक सिरे से दूसरे सीरे तक बहता है।

पेड़, पौधे में जख्म injury होने पर खुले स्थान से लेटेक्स रीसने लगता है और हवा के संपर्क में आने के बाद जम जाता है coagulates। संभवत: यह रक्षा प्रणाली का भाग है (सं भ व त:, इसलिए कि पौधा बोल नहीं सकता कि लेटेक्स क्यों बनाया)😂।

जख्म वाली जगह बन्द seal होजाने से बाहरी जीव, जीवाणु, विषाणु, कवक कीड़े आदि उसमें से अंदर प्रवेश न कर सके। सामान्य त: यह विषैला पदार्थ है। महत्व पूर्ण पदार्थ जो लेटेक्स से प्राप्त किए जाते है रबर, अफ़ीम। करीब दस प्रतिशत पेड़/पौधों में यह पाया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *