आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस किसे कहते हैं ? जानिए

AI का पूरा नाम आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस ( Artificial intelligence) है।वर्तमान समय में स्वचालित चीजों और स्वचालित मशीनों का इस्तेमाल बहुत ज्यादा होने लग गया है और इनमें जिस तकनीक का उपयोग होता है उसे हमआर्टिफीशियल इंटेलिजेंस(Al) कहते है। आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस की बात करे तो आर्टिफीसियल मतलब कृत्रिम जो किसी व्यक्ति के द्वारा बनाया जाता है और इंटेलिजेंस मतलब बुद्धिमत्ता जो खुद की सोचने की शक्ति रखता हो।

भारत की उदीयमान कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelliegence-AI) और मशीन लर्निंग (Machine Learning-ML) के पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने के उद्देश्य से कई पहलों पर मिलकर एक साथ काम करेंगे, जिससे देश में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का पारिस्थितिक तंत्र निर्मित करने में मदद मिलेगी। नीति आयोग को एआई जैसी प्रौद्योगिकियाँ विकसित करने और अनुसंधान के लिये राष्ट्रीय कार्यक्रम तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इस जिम्मेदारी पर नीति आयोग राष्ट्रीय डाटा और एनालिटिक्स पोर्टल के साथ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर राष्ट्रीय कार्य नीति विकसित कर रहा है, ताकि व्यापक रूप से इसका उपयोग किया जा सके।

आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस क्या है?

सरलतम शब्दों में कहें तो आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस का अर्थ है एक मशीन में सोचने-समझने और निर्णय लेने की क्षमता का विकास करना। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को कंप्यूटर साइंस का सबसे उन्नत रूप माना जाता है और इसमें एक ऐसा

आर्टिफीशियल इटेलिजेंस के प्रकार –

पूर्णतः प्रतिक्रियात्मक (Purely Reactive)
सीमित स्मृति (Limited Memory)
मस्तिष्क सिद्धांत (Brain Theory)
आत्म-चेतन (Self Conscious)
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जनक जॉन मैकार्थी के अनुसार यह बुद्धिमान मशीनों, विशेष रूप से बुद्धिमान कंप्यूटर प्रोग्राम को बनाने का विज्ञान और अभियांत्रिकी है अर्थात् यह मशीनों द्वारा प्रदर्शित की गई इंटेलिजेंस है।
इसके ज़रिये कंप्यूटर सिस्टम या रोबोटिक सिस्टम तैयार किया जाता है, जिसे उन्हीं तर्कों के आधार पर चलाने का प्रयास किया जाता है, जिसके आधार पर मानव मस्तिष्क काम करता है।
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंप्यूटर द्वारा नियंत्रित रोबोट या फिर मनुष्य की तरह इंटेलिजेंस तरीके से सोचने वाला सॉफ़्टवेयर बनाने का एक तरीका है।
यह इसके बारे में अध्ययन करता है कि मानव मस्तिष्क कैसे सोचता है और समस्या को हल करते समय कैसे सीखता है, कैसे निर्णय लेता है और कैसे काम करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »