दो गरीब ऑटोवालों को मिला सोने से भरा लावारिस बैग, फिर जो हुआ वो किसी ने नहीं सोचा था

आपको बता दें कि पुणे के रेलवे स्टेशन के नजदीक पार्किंग बूथ में एक बैग पड़ा हुआ था. ऐसे में सवारियों का इंतज़ार कर रहे दो ऑटो चालक अतुल टिलेकर और भारत भोसले की नजर इस बैग पर पड़ी. जब इन दोनों ने बैग को खोला तो उसमे ढेर सारा सोना भरा हुआ था. ऐसे में दोनों ने अपनी ईमानदारी का परिचय दिया और बिना किसी लालच के बैग को सीधा पुलिस स्टेशन ले गए.

यहाँ पुलिस ने बैग को उसके असली मालिक दीपक चितराला को सौंप दिया. बता दे कि दीपक ने भी अपने बैग के खो जाने की रिपोर्ट दर्ज करवा रखी थी. ऐसे में उसकी किस्मत अच्छी थी कि ये बैग दो ईमानदार ऑटो वालों के हाथ लगा. यदि बैग किसी अन्य लालची को मिलता तो उनका लाखों रुपए का नुकसान हो जाता.

सूत्रों की माने तो बैग के अंदर जो सोना था उसकी कीमत करीब 7.5 लाख रुपए थी. यदि आप इन दोनों ईमानदार ऑटो चालाक से इम्प्रेस हुए हैं तो जरा ठहर जाइए.

अब हम आपको एक और ऐसी बात बताने जा रहे हैं जिसे जानने के बाद आपके मन में इन दोनों ऑटो वालों के लिए इज्जत और भी बढ़ जाएगी. जब बैग के असली मालिक को सोने से भरा अपना बैग वापस मिल गया तो वो बहुत खुश हुआ.

उसने इस ख़ुशी में दोनों ऑटो चालकों को कुछ पैसे देना चाहे. लेकिन दोनों ही ऑटोवाले ने इन पैसो को लेने से इंकार कर दिया. इससे ये साफ़ जाहिर होता हैं कि यह दोनों सच में ईमानदार हैं. इन्हें तो बैग के मालिक से ईनाम में मिलने वाले पैसो का भी कोई लालच नहीं था.

इन्होने बिना किसी निजी स्वार्थ के ये बैग वापस किया. यह अपने आप में बहुत बड़ी बात हैं. उधर सोशल मीडिया पर भी इन दोनों ऑटो वालों की बहुत तारीफ़ हो रही हैं. लोगो का कहना हैं कि यदि आज के ज़माने में हर कोई ऐसा ईमानदार बन जाए तो दुनियां बहुत खूबसूरत बन जाएगी.

फिर किसी को सामान खोने का कोई डर नहीं रहेगा. हालाँकि कड़वी सच्चाई तो यही हैं कि आज के कलयुग में इस तरह के ईमानदार लोग बहुत कम देखने को मिलते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *