यह बंदर आग जगा कर खुद के लिए बनाता है आमलेट

आप सुनकर हैरान हो जाओगे कि जंगलों में रहने वाला यह चिंपांजी इसका नाम कांजी है, वह पत्थरों की मदद से स्वयं आग जलाता है। सही सुना आपने वह खुद अपने हाथों से पत्थरों को रगड़ कर आग लगाता है और उसी आग से खुद का पेट भरने के लिए उसी आग पर आमलेट भी बनाता है। इस कांजी नामक चिंपांजी की उम्र 34 वर्ष है।

इसको प्रत्यक्ष रूप से देखने वाले लोगों ने इसका प्यार से नाम कांजी रख दिया। प्रत्यक्ष रूप से देखने वाले लोगों का कहना है कि यह सबसे अलग चिंपांजी है यह अपनी प्रतिदिन की गतिविधियों के साथ साथ अपना भोजन भी स्वयं ही बनाता है।

जिसके लिए आवश्यक आग भी स्वयं ही लगाता है तथा कई प्रत्यक्षदर्शियों का यह भी कहना है कि यह बचा हुआ आमलेट अपने साथी जानवरों को भी खाने के लिए देता है।

इसको प्रत्यक्ष रूप से देखने के लिए कई लोग नीदरलैंड्स के इस जंगल में जाते हैं तथा इसे देखकर लोग बहुत ही अच्छा अनुभव करते हैं। कई लोग चिंपांजी की गतिविधियों को सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं। जो कई बार सोशल मीडिया पर वायरल भी हो जाती हैं।

यदि सभी जानवर ऐसे ही आत्मनिर्भर बन जाए तो उन्हें मानव और अन्य स्रोतों पर निर्भर रहने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »