भोजन के बाद टहलने से दूर होती हैं ये बीमारियां

ज्यादातर लोगों को खाना खाने के बाद सुस्ती महसूस होती है और वो आराम करना पसंद करते हैं जबकि भोजन के तुरंत बाद बैठने या सोने से सेहत को कई नुकसान हो सकते हैं। इसलिए खाना खाने के बाद पैदल चलना जरूरी होता है। यह सेहत के लिए फायदेमंद साबित होता है। खाना खाने के तुरंत बाद चलने से खाना आसानी से पच जाता है और पेट की चर्बी भी कम होती है। इस लेख के ज़रिए हम आपको खाना खाने के बाद पैदल चलने के कुछ फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।

भोजन पचाने में मदद करता है

यदि भोजन करने के बाद सुस्त महसूस करते हैं, तो बाहर जाएं और टहलें। चलना शरीर की पाचन प्रक्रिया को मजबूत करता है। रात को खाना खाने के बाद चलने से शरीर गैस्ट्रिक एंजाइम्‍स का उत्‍पादन करने लगता है और पेट ज्‍यादा बेहतर तरीके से पोषक तत्‍वों का अवशोषण कर पाता है। बेहतर पाचन का मतलब है कब्ज, मतली, सीने में जलन और एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों का खतरा कम होना।

मेटाबोलिज्म में सुधार

पाचन के बाद अगली प्रक्रिया जिसे हम मेटाबोलिज्म कहते हैं, बहुत महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। इसमें हमारा शरीर खाने से टूटे हुए अणुओं को बदलने का काम करता है। इसमें शरीर भोजन में मौजूद कैलोरी और ऑक्सीजन को एनर्जी के रूप में रिलीज़ करता है। खाना खाने क बाद पैदल चलने से पाचन के साथ-साथ मेटाबॉलिज्म भी तेज होता है।

बेहतर नींद आती है

पाचन ठीक होने पर तनाव नहीं रहता और कैलोरी बर्न होती है। गहरी और अच्‍छी नींद के लिए ये बहुत जरूरी होता है। अगर आप अनिद्रा या नींद की कमी से परेशान हैं या सुबह उठकर सुस्ती महसूस होती है तो रात को खाना खाने के बाद पैदल चलना शुरु कर दीजिए।

ब्लड शुगर नियंत्रित करता है

रात को खाना खाने के बाद सिर्फ 30 मिनट पैदल चलकर अपने ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकते हैं। डिनर के बाद पैदल चलने से डायबिटीज के मरीज़ों को फायदा होता है और इससे बचाव मिलता है। खाना खाने के 30 मिनट बाद आपका ग्लूकोज लेवल बढ़ जाता है। इस समय टहलने से शरीर रक्त में मौजूद कुछ ग्लूकोज का इस्तेमाल कर लेता है। इस प्रकार, भोजन करने के बाद चलने से ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित रहता है और हाइपोग्लाइसीमिया का खतरा नहीं रहता है।

ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करता है

ट्राइग्‍लिसराइड लेवल का असर बैड और गुड कोलेस्‍ट्रॉल पर पड़ता है। एचडीएल यानी बैड कोलेस्‍ट्रॉल ज्‍यादा होने पर हार्ट अटैक, डायबिटीज, स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता है। पैदल चलने से एचडीएल लेवल कम रहता है।

इम्यून सिस्टम मजबूत होता है

बेहतर पाचन, स्वस्थ पेट और मजबूत मेटाबोलिज्म ही एक इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है। इम्यून सिस्टम के मजबूत होने पर संक्रमण और बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। यदि इम्यून सिस्टम मजबूत होता है तो सर्दी, खांसी, एलर्जी आपको छू भी नहीं पाती हैं। तो अब अगर आप स्वस्थ रहना चाहते हैं तो रात में खाना खाने के बाद पैदल चलने की आदत डालें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »