पीसा की मीनार चार शक्तिशाली भूकंप के झटके सहने के बाद भी खड़ी हुई है मजबूती से

पीसा की मीनार अपने नींव से चार डिग्री के खतरनाक कोण पर झुकी है। ऐसे में इस बात की हमेशा आशंका रहती थी कि इसे गंभीर नुकसान पहुंच सकता है।इटली में स्थित लीनिंग टावर ऑफ पीसा वास्तुशिल्प का एक अद्भुत नमूना है। यह इमारत अपने नींव से चार डिग्री झुकी है। करीब 184 फीट ऊंची पीसा की मीनार झुकने के वजह से दुनियाभर में मशहूर है। हालांकि, साल 1280 के बाद से चार बार शक्तिशाली भूकंप आए, लेकिन उसके बावजूद भी इस मीनार का बाल बांका नहीं हुआ।इतना ही नहीं साल 1280 से लेकर अबतक 4 शक्तिशाली भूकंप के झटके सहने के बाद भी यह मीनार मजबूती से खड़ी है। तो आइए जानते हैं इस मीनार पर भूकंप से कोई नुकसान कैसे नहीं पहुंचा?इसके रहस्य को जानने के लिए उपलब्ध भूकंपीय, भू-तकनीकी और ढांचागत सूचना का 16 इंजीनियरों की एक टीम ने अध्ययन कियाअध्ययन कर रहे शोध समूह ने पाया कि शक्तिशाली भूकंप के झटके सहने के बाद इस मीनार के खड़े रहने के पीछे इसकी नींव में डाली गई मिट्टी है।

मीनार की ऊंचाई और कठोरता के साथ-साथ नींव में डाली गई मिट्टी की कोमलता से भूकंप आने पर यह हिलती नहीं है। इसी मिट्टी के वजह से यह मीनार शक्तिशाली भूकंप के झटके सहने के बाद भी मजबूती से खड़ी है।

जब इस मीनार की हालात गिरने जैसी हो गई, तो साल 1990 में इसकी निगरानी के लिए एक टीम बनाया गया था। इस टीम ने कई सालों तक इसके रेस्टोरेशन का काम किया और मीनार को कुछ हद तक थोड़ा सीधा करने में सफलता हासिल की। इंजीनियरों ने पाया कि इस मिट्टी ने जमीन के नीचे हुई गतिविधि के कारण मीनार में हुई गतिविधि पर प्रभाव डाला। इस प्रक्रिया को डायनेमिक सॉइल-स्ट्रक्चर इंटरेक्शन कहा जाता है।रिपोर्ट्स के मुताबिक, 186 फीट के इस टावर को 1.5 इंच यानी 4 सेंटीमीटर तक सीधा कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »