मानसून में इन उपायों से करें अपने पैरों की देखभाल, जानिए कैसे

बारिश के मौसम में हम शरीर के दूसरे भागों को भीगने से बचा लेते हैं लेकिन हमारे पैर भीगते ही हैं। पैरों के भीगने से उनमें फंगल इंफेक्शन की संभावना बढ़ जाती है। बारिश होते समय हम अपने शरीर को रेनकोट या छाते से बचा लेते हैं। लेकि यदि हमने पैरों में कवर्ड फुटवेअर नहीं पहने हैं तो कीचड़ हमारे पैरों पर लग ही जाती है। इससे ही पैरों में कई प्रकार के स्किन इंफेक्शन हो सकता है। अतः इन सभी चीजों का ध्यान रखते हुए हम आज आपको कुछ ऐसे उपाय यहां बता रहें हैं। जो बारिश के मौसम में आपके पैरों को बचाव करते हैं। आइये जानते हैं इन उपायों के बारे में।

1 – प्यूमिक स्टोन का करें यूज
अपने पैरों को स्वस्थ रखने के लिए आप प्रतिदिन प्यूमिक स्टोन का यूज करें। इससे आपके पैरों की डेड स्किन हैट जाती है। जब आपके पैरों में डेड स्किन बनने लगती है तो आपके पैरों में क्रेक होने की संभावना भी बढ़ने लगती हैं। अतः प्यूमिक स्टोन का यूज कर डेड स्किन को ख़त्म करने का कार्य प्रतिदिन करें।

2 – मॉइस्चराइज रखें पैरों को

आपको मानसून के दौरान अपने पैरों को मॉइस्चराइज रखना बहुत जरुरी है। असल में ऐसा करने से आपके पैरों में नमी बनी रहती है और पैरों के क्रेक होने की संभावना भी कम होती है।

3 – फुटवेअर को सुखाकर ही पहने

बारिश के मौसम में आपके फुटवेअर भीग जाते हैं। ऐसा होने पर आप उनको अच्छे से धोने के बाद सुखाएं तथा उसके बाद ही यूज करें। यदि आप ऐसा नहीं करती हैं तो आपके पैरों में फंगल इंफेक्शन होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।

4 – नाख़ून अवश्य काटें

यदि नाख़ून बढ़ जाते हैं तो उनमें वैक्टीरिय होने की संभावना ज्यादा होती है। यही वैक्टीरिया हमारे पैरों में स्किन इंफेक्शन का कारण बन जाते हैं। अतः हफ्ते में कम से कम एक बार नाख़ून अवश्य काटें।

5 – तेल का करें यूज

जिस प्रकार शरीर पर तेल लगाने से स्वस्थ रहता है। उसी प्रकार से आपके पैरों पर भी यही चीज अप्लाई होती है। आप हल्के गर्म पानी में नारियल तेल या रोजमेरी का तेल कुछ मात्रा में मिलाकर अपने पैरों को मसाज अवश्य दें। ऐसा करने से आपके पैरों को आराम मिलेगा तथा पैरों की स्किन भी मुलायम बनेगी तथा उनके फटने के चांस भी कम होंगे। मानसून के मौसम में यदि आप अपने पैरों के लिए ये टिप्स अपनाती हैं तो आपके पैर हमेशा स्वस्थ बने रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »