राम मंदिर भूमिपूजन पर अयोध्या में जलेंगे 6 लाख दीपक

पूरी अयोध्या नगरी अयोध्या में राम मंदिर के भूमिपूजन समारोह के अवसर पर 4 और 5 अगस्त को 6 लाख दीपों से जगमगाएगी। इन 2 दिनों के दौरान जन्मभूमि परिसर में 21 हजार दीप जलाए जाएंगे। राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट ने समारोह के लिए 200 मेहमानों को आमंत्रित किया है, जिसमें संघ-विहिप के 5 प्रतिनिधि, 6 सिख धर्मगुरु और 2 शंकराचार्य शामिल हैं। इस दौरान रामभक्त ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने श्रद्धालुओं से कहा चांदी की शिला नहीं लाना है। इसके बदले में ट्रस्ट के बैंक खाते में उतनी ही राशि जमा करें। राम जन्मभूमि पर बिराजमान रामलला के दर्शन का समय भी 1 घंटे बढ़ाकर दोपहर 12 बजे से दोपहर 12 बजे के बजाय सुबह 7 बजे से 11 बजे तक किया गया है, जबकि दर्शन दोपहर 2 से 6 बजे तक आयोजित किए जाते हैं। 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर के भूमिपूजन के लिए 12:15:15 से 12:15:47 तक हैं। यानी प्रधानमंत्री 32 सेकेंड में श्रद्धांजलि देंगे। वह नींव के पत्थर के रूप में पांच सितारों के पांच चांदी के पत्थर रखेंगे।

40 करोड़ अयोध्या बाईपास में निर्माण कार्य पर खर्च होंगे सुंदरीकरण के लिए 15 करोड़ रुपये की राशि तय की गई अयोध्या में 5 अगस्त को रामलला के मंदिर का भूमिपूजन

अयोध्या में रामलला के मंदिर का भूमिपूजन 5 अगस्त को होने जा रहा है, और इसके आयोजन को लेकर तैयारी चल रही है. इस बीच पिछले साल फैजाबाद के लोकसभा सांसद लल्लू सिंह की ओर से शहर के सुंदरीकरण और निर्माण कार्य को लेकर किए गए अनुरोध पर केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने एनएचएआई से इसे मंजूरी देने को कहा था.

फैजाबाद के सांसद लल्लू सिंह के अनुरोध पर भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) मुख्यालय ने शहर के सुंदरीकरण और निर्माण कार्य के लिए 55 करोड़ रुपये की राशि अनुमोदित कर दी है. इस संबंध में निम्नलिखित जानकारी प्रस्तुत की गई है.

एनएचएआई मुख्यालय ने सुंदरीकरण और निर्माण कार्य को दो अलग-अलग भागों में अनुमोदित किया है पहला, अयोध्या बाईपास पर निर्माण कार्य के लिए 40 करोड़ रुपये की राशि और दूसरा सुंदरीकरण के लिए 15 करोड़ रुपये की राशि तय की गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »