बॉडी बिल्डरों की पसंद प्रोटीन, जानिए आखिर बनता कैसे है

ऐसा देखा गया है की जो इंसान अपना शरीर हष्ट पुष्ट बनाना चाहता है वह प्रोटीन का सेवन बहुत ज्यादा करता है क्योंकि प्रोटीन हमारे शरीर की वृद्धि और विकास करने में सहायक होता है और इसी के साथ साथ वह हमारे शरीर की मरम्मत भी करता है। बॉडीबिल्डर श्रेणी के लोग प्रोटीन को बहुत ज्यादा पसंद करते हैं क्योंकि यह शरीर को बड़ा करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है।

प्रोटीन सामान्यतः अमीनो अम्ल से बने होते हैं और जब कई सारे अमीनो अम्ल इकट्ठे हो जाते हैं तो वह प्रोटीन का निर्माण कर देते हैं। इनके अलावा प्रोटीन में कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन और नाइट्रोजन पाए जाते हैं और किन्ही विशेष प्रोटीन में सल्फर और फास्फोरस भी पाया जाता है।

अमीनो अम्ल वह होते हैं जिनमें कार्बनिक अम्ल और अमीनू समूह पाया जाता है। प्रोटीन बनाने में लगभग 20 प्रकार के अमीनो अम्ल भाग लेते हैं। कुछ अमीनो अम्ल आवश्यक होते हैं जिन्हें प्राप्त करने के लिए भोजन में लेना आवश्यक होता है वही कुछ अमीनो अम्ल अनावश्यक होते हैं जिनका निर्माण सहित खुद ही कर लेता है।

प्रोटीन का एक अच्छा स्त्रोत दालों, सोयाबीन, अनाज को माना जाता है और अंडा, दूध, मांस से भी प्रोटीन की प्राप्ति हो सकती है। ज्यादा प्रोटीन प्राप्त करने के लिए बॉडी बिल्डर प्रोटीन पाउडर का सेवन करते हैं जिससे उन्हें प्रोटीन ज्यादा मात्रा में और जल्दी प्राप्त हो सके लेकिन इसके कई सारे दुष्परिणाम भी हमारे शरीर को झेलने पड़ते हैं।

सबसे ज्यादा प्रोटीन सोयाबीन में 40 से 42% पाया जाता है जबकि दालों में 20% और मांस में 21% प्रोटीन पाया जाता है। मांसपेशियों के निर्माण में प्रोटीन मुख्य भूमिका निभाता है और हमारी त्वचा, बाल, नाखून का निर्माण भी प्रोटीन से होता है और रक्त में हीमोग्लोबिन बनाने में भी प्रोटीन सहायक होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »