मौत को मुठी में लेकर घूमते हैं इस शहर के लोग

एक समय मे मोटसमोर को विश्व का सबसे खतरनाक अनुउर्जा प्लांट नाम दिया गया था । क्योंकि ये भूकंप में सवेदनशील विस्तार में बनाया गया था । क्योंकि ये अर्मेनिया की राजधानी येरेमान से सिर्फ 35 किलोमीटर दूर है । यहाँ से तुर्की की शरहद के उसपार बर्फ से ढंके माउंट अरारत की जलक देखी जा सकती हैं ।

इस परमाणु ऊर्जा प्लांट का को 1970 में बनाया गया था । इस परमाणु ऊर्जा प्लान का निर्माण चेर्नोबिल के साथ 1970 किया गया था । उन दिनों मेट्समोर रिएक्टर विसाल सोवियत संधनी की उर्जा पूरी होती थी । सोवियत संध ने 2000 में अपनी 60% विज ऊर्जा बनाने का टारगेट रखा था लेकिन 1988 में सब बदल गया ।

6.8 के एक भूकंप सब बदल के रख दिया । अर्मेनिया में इस भूकंप ने विनाश कर दिया । इस भूकंप 25000 से ज्यादा लोगो की मौत हुई थी । सुरक्षा के लिए विज प्लांट को बंध करना पड़ा था । मोटर्स रिएक्टर में काम करने वाले ज्यादातर यूक्रेन,पोलेंड और रशिया में घर चले गए थे । 30 साल बाद भी मोट्समेर प्लांट और उसका भविष्य चर्चा में हैं । यहाँ का एक रिएक्टर 1995 फिर शुरू हुआ था । जिससे अर्मेनिया की 40% विज की जरूरियात पूरी हुई थीं । लोग कहते है कि यह परमाणु रिएक्टर खरनाक हैं । क्योंकि ये जहाँ बनाया गया हैं वहाँ आज भी भौगोलिक हलचल होती हैं ।

मोट्समेर शहर का नाम भी परमाणु रिएक्टर के नाम पर से रखा गया हैं सोवियत यूनियन के इस शहर को एक मोडल सिटी के तौर पे बनाया गया था । इसे एतमोग्राट कहा जाता था । बाल्टिक से लेके कजाकिस्तान तक समग्र सोवियत संघ के प्रशिक्षण कामदारों को यहाँ लाया गया था । यहाँ 36 हजार लोगों स्थायी करने की योजना थी ।

उनके कृत्रिम तालाब,रमगमती सुविधाओं को एक सांस्कृतिक केंद्र बनाया गया था । शुरुआत में यहाँ की दुकानों में माल भरा रहता था । उन दोनों में भी येरेवान में चर्चा थी कि मोट्समेर शहर श्रेष्ठ हैं भूकंप आने के बाद बांधकाम को रोकना पड़ा । तालाब खाली कर दिए गए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »