पाकिस्तान क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज उमर गुल ने क्रिकेट के हर फॉर्मेंट से लिया संन्यास

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज उमर गुल ने क्रिकेट के हर फॉर्मेट से संन्यास की घोषणा कर दी है। वो आगे अपना करियर कोचिंग में बनाना चाहते हैं। उमर गुल ने पाकिस्तान के लिए 47 टेस्ट, 130 वनडे और 60 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले हैं। टी20 वर्ल्ड कप 2009 में पाकिस्तान को खिताबी जीत मिली थी और इसमें उन्होंने बड़ी भूमिका निभाई थी। गेंदबाज के तौर पर नेशनल टी20 कप उनका आखिरी टूर्नामेंट होगा नेशनल टी20 कप का आयोजन मुल्तान और रावलपिडीं में 30 सितंबर से खेला जाएगा और इसका समापन 18 अक्टूबर को होगा। इस टूर्नामेंट में उमर गुल बलूचिस्तान फर्स्ट इलेवन का हिस्सा होंगे। वो टीम में खिलाड़ी के साथ-साथ मेंटर की भूमिका निभाएंगे। उमर गुल ने अपने पेशेवर करियर को आगे बढ़ाने के लिए संन्यास का फैसला किया हैउमर गुल ने 2003 से केर 2016 तक पाकिस्तान क्रिकेट टीम का प्रतिनिधित्व किया और इस दौरान उन्होँने कुल 400 से ज्यादा इंटरनेशनल विकेट लिए। शोएब अख्तर और मो. आसिफ के बाद उमर गुल पाकिस्तान तेज गेंदबाजी आक्रमण का अगुआ बने थे। उन्होंने आइपीएल के पहले सीजन में कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए सौरव गांगुली की कप्तानी में भी खेला था।

2009 में पाकिस्तानी टी20 वर्ल्ड कप विजेता टीम का हिस्सा होने के बाद वो दुनियाभर के कई क्रिकेट लीग का हिस्सा बनेसाथ एक इंटरव्यू में कहा था कि वो रिटायरमेंट के बाद कोच बनना चाहते हैं। उन्होंने कहा था कि मैं कुछ निश्चित तौर पर नहीं कह सकता, लेेकिन इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट के बाद मैं कोचिंग में अपना हाथ आजमाउंगा। मैंने लेवल वन और लेवल टू का कोर्स किया और जल्द ही लेवल थ्री का भी कोर्स करूंगा। उमर गुल ने कहा कि मुझे डिपार्टमेंट की तरफ से जो मासिल सैलरी मिलती है उससे मेरा मासिक खर्च पूरा हो जाता था, लेकिन ईमानदारी से कहूं तो घरेलू क्रिकेट से जो आमदनी होती है उससे परिवार का खर्चा पूरा नहीं हो पाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »