नोवेल कोरोनावायरस के चलते दुनियाभर में 16500 से ज्यादा मौत

सार यूके में सरकार तीन सप्ताह के लिए लॉकडाउन की घोषणा कर चुकी है पर अब इसके लागू करने पर सवाल उठाए जा रहे हैं। इसकी वजह यह है कि मंगलवार को देश की भूमिगत ट्रेनें पूरी तरह से भरी देखी गईं। हालांकि इन ट्रेनों की सेवाओं में कटौती की गई है लेकिन मुसाफिरों पर इसका असर पड़ता नहीं दिख रहा है।

प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कम से कम 21 दिनों के लिए, लोगों की आवाजाही में कमी लाने के मकसद से कुछ उपायों का एलान किया था। यहां कोरोना से मरने वालों की तादाद 335 हो गई है। तब जॉनसन ने लोगों से कहा था कि वे घर में ही रहें और पुलिस को इसके लिए आवश्यक निर्देश दिए थे। अब यह भी सवाल उठाया जा रहा है कि जॉनसन ने ये जो ऐलान किया था, वह अपने आप में स्पष्ट नहीं था। लोग पुलिसकर्मियों से ये सवाल पूछ रहे हैं कि उन्हें क्या करने या नहीं करने की इजाजत है। यातायात मंत्री गेंट शाप्पे ने सोमवार को स्थिति और स्पष्ट करते हुए कहा था कि सलाह एकदम साफ है कि, घर पर रहें।

पाकिस्‍तान में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ती जा रही है। वहां के अखबार द डॉन में छपी एक खबर के मुताबिक यदि इस पर लगाम नहीं लगाई गई तो जून तक इसका आंकड़ा बढ़कर 2 करोड़ तक छू जाएगा।

जागरण डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, पाकिस्‍तान के लिए आंकड़ा बेहद चौंकाने वाला है। आपको बता दें कि पाकिस्‍तान में इसके मरीजों की संख्‍या 990 तक जा पहुंची है।

यहां पर सिंध में 394 मामले, पंजाब में 249 मामले, बलूचिस्‍तान में 110 मामले, गुलाम कश्‍मीर में 72 मामले, खैबर पख्‍तूंख्‍वां में 38 मामले और इस्‍लामाबाद में 15 मामले अब तक सामने आ चुके हैं।

वहीं पूरी दुनिया की बात करें तो विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के आंकड़े बता रहे हैं कि दुनिया के 190 देशों में अब तक ये अपने पांव पसार चुका है। इसकी वजह से अब तक करीब 14652 मौत हो चुकी हैं और 334981 मामले अब तक इसके सामने आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »