जानिए कमर और पेट की चर्बी को कम करने वाले जादुई उपाय

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों के पास इतना समय नही है कि वो अपने खुद की देखबाल करने के लिये समय निकाल सके। घर के सभी काम से लेकर, ऑफिस जाना, फिर लौट कर वापस खाना बनाना लोगों की यही दिनचर्या बन चुकी है। कम समय में जल्दी खाना बने, इसके लिये लोग जंक फूड का सहारा लेकर पूरा दिन निकाल देते हैं जिंदगी में इस तरह का खान पान हमारे शरीर के लिये आगे चलकर खतरनाक साबित होता है। साथ ही मोटापे का सबसे बड़ा कारण बन जाता है आलम यह होता है कि इनके कमर और पेट पर चर्बी की मात्रा इतनी चढ़ जाती है कि उन्हें सामान्य करना भी भारी पड़ता है शरीर में बढ़ता मोटापा ना जाने कितनी बीमारियों का कारण बन जाता है। यदि आप इस समस्या से निजात पाना चाहते है तो आज हम आपको इस तरह के मोटापे से बचने के कुछ उपाय बता रहे हैं।

1- तनाव से बचें

सबसे पहले तो जिंदगी में कितना भी मुश्किल वक़्त हो, उसका डट कर मुकाबल करें, पर तनाव को नजदीक न फटकने दें। तनाव से मोटापा तो बढ़ता ही है साथ ही कई तरह की बीमारियों को आमंत्रण भी देता है, इसलिए तनाव को कहें बॉय।

2- हरी सब्जियों से करें दोस्ती
ज़्यादातर समय के अभाव में लोग हरी सब्जियों की जगह फटाफट जल्दी तैयार होने वाली सब्जियों को खाना ज्यादा पसंद करते हैं उनमें स्वाद के लिए तेल मसाले का ज्यादा उपयोग होता है, जबकि हरी सब्जियां सेहत के लिए फायदेमंद होने के साथ पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं जो मोटापे का दुश्मन होती हैं।

3- शुगर को कहें ना
शुगर, चीनी, मिठाई, चॉकलेट, आइसक्रीम जैसी मीठी चीजों को खाने का लिए लोग टूट पड़ते हैं लेकिन इन मीठी चीजों को पचाने के लिए जितनी मेहनत होनी चाहिए लोग उसका आधा मेहनत भी नहीं करते हैं जिससे मीठा एक निश्चित मात्रा के बाद सीधे रक्त में जाता है जो डायबिटीज का कारण बनता है, और अतिरिक्त कैलोरी शरीर मे चर्बी के रूप में जमा होती जाती हैं जो मोटापे का बड़ा कारण बनती हैं।

4- ग्रीन टी हर दिन पियें
ग्रीन टी का स्वाद कडुआ होता है, लेकिन ये काफी गुणों से युक्त होती है, ग्रीन टी में वो गुण होता है जो शरीर के भीतर के सभी विषैले पदार्थों को बाहर निकाल देता है, ग्रीन टी में पाया जाने वाला कैटेचिन नामक यौगिक मेटाबॉलिज्म को मजबूत करने का काम करता है। जानकार मानते हैं कि ग्रीन टी फैट घटाने वाले किसी भी तत्व से 16 गुना ज्यादा काम करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »