जानिए शुभ कार्यों में क्यों रखे जाते हैं आम के पत्ते

हनुमान जी अपने भक्तों पर आने वाले सभी प्रकार के कष्टों और परेशानियों को दूर करते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान हनुमान बहुत प्रसन्न देवता हैं। उनकी पूजा में ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं है। शायद यही कारण है कि आज के समय में हनुमान जी के भक्तों की संख्या भी बहुत अधिक हो गई है। हनुमान जी राम के भक्त हैं और उनकी शरण में जाने से भक्तों की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। जब हिंदू परिवारों में कोई शुभ कार्य किया जाता है, तो आम के पेड़ (अमरा पल्लव) की पत्तियों को सजावट के रूप में घर के प्रवेश द्वार के ऊपर रखा जाता है। आइए आपको बताते हैं कि इसके पीछे धार्मिक कारण क्या है।

हिंदू धर्म में पेड़ों का बहुत सम्मान किया जाता है, उनकी पूजा की जाती है और उन्हें अन्न देवता माना जाता है। आम के पत्तों को पूजा में विशेष रूप से शामिल किया जाता है। आम के पेड़ (अमरा पल्लव) के पत्ते सभी मंगल कार्यों में लगाए जाते हैं। लेकिन इस पेड़ की पत्तियों में ऐसा क्या खास है कि इनका उपयोग शुभ कार्यों में किया जाता है।

घर के दरवाजे पर ही नहीं, जब पूजा का कलश तैयार किया जाता है, तो उस पर आम के पेड़ के पत्ते लगाए जाते हैं। इतना ही नहीं, हिंदू परंपरा के अनुसार, जब किसी की शादी होती है, तब भी शादी के मंडप को आम के पेड़ के पत्तों से सजाया जाता है। नवजात बच्चे के पालने को भी आम के पेड़ की पत्तियों से सजाया जाता है। इसके अलावा, कई धार्मिक अनुष्ठान और मंगल कार्य हैं जहां आम के पेड़ की पत्तियों का बड़ी मात्रा में उपयोग किया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, आम को हनुमान का पसंदीदा फल माना जाता है। इसलिए जहां भी आम और आम का पत्ता होता है, वहां हनुमान जी की विशेष कृपा बनी रहती है।

वहीं, माना जाता है कि आम की लकड़ी, घी, अगरबत्ती के इस्तेमाल से वातावरण में सकारात्मकता बढ़ती है। जब भी बाहर से आने वाली हवा इन पत्तियों को छूकर घर में प्रवेश करती है, तो यह अपने आप में सकारात्मक कण लाती है। इस तरह की हवा से घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है और ऐसे घर में कभी बरकत नहीं होती। इसके अलावा, यह भी माना जाता है कि प्रवेश द्वार पर आम के पत्तों को लटकाने से सभी मांगलिक कार्य बिना किसी गड़बड़ी के पूरे हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »