जानिए वृद्धावस्था में दवाइयां लेते समय रखें इन बातो का ध्यान

बढ़ती उम्र के साथ-साथ शरीर में कई बीमारियां घर कर जाती हैं। उम्र बढ़ने के साथ-साथ शरीर कमजोर होने लगता है। शारीरिक रूप से शुगर, मोतियाबिंद, हायपर टेंशन, कम सुनाई देना, हृदय रोग, आर्थराइटिस, कब्ज रहना आदि समस्या होती है। इसके अलावा मानसिक रूप से डिप्रेशन, डिमेंशिया, नींद की दिक्कत, नशा करना आदि समस्याएं होती है।

कई बार कुछ दवाएं तो जीवनभर चलती हैं। लेकिन ढलती उम्र के साथ-साथ दवाएं लेने में सावधानी बरतनी चाहिए वरना फायदे की जगह नुकसान हो सकता है। रिसर्च कहती हैं कि 87% वरिष्ठजन दवाओं पर निर्भर रहते हैं। यही कारण है कि दवाओं का मैनेजमेंट बेहद जरूरी है।

बुजुर्ग की दवाइयों ऐसे रखें ध्यान

दोस्तों उदाहरण के लिए, कुछ लोग रसोई में कुछ गोलियां रखते हैं, तो कुछ बेड या अन्य जगहों पर। लेकिन कई दवाओं को एकसाथ एक वक्त पर लेने की आवश्यक्ता होती है। ऐसा में अलग-अलग स्थान पर रखी दवाओं की वजह से आप उन्हें मिस कर सकते हैं और आपकी दवा बेअसर हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि आप समय का विशेष ध्यान रखें कौन सी दवा कब और कैसे खानी है इसे डॉक्टर अच्छी तरह समझ लें।

सामान्य तौर पर, दवा को ठंडी और सूखी जगह पर रखा जाना चाहिए। इसका मतलब है कि दवाइयां कैबिनेट में ध्यान से रखें। नहीं तो नमी और गर्मी के कारण दवाएं प्रभावित कर सकती हैं।

निगेटिव ड्रग इंटरैक्शन को रोकने के लिए, यह जानना आवश्यक है, कि वयस्क क्या पुरानी दवाएं ले रहे हैं। यही कारण है कि हमेशा उनकी दवाओं, विटामिन, पूरक, और ओवर-द-काउंटर दवाओं की एक अप-टू-डेट सूची होती है।

कुछ वयस्क कई दवाएं, विटामिन जैसी दवाइंयाें का ओवर-द-काउंटर दवाएं या पूरक ले रहे हैं। इसीलिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि उनमें से कोई भी दवाई किसी बड़ी परेशानी का कारण न बनें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »