19 लाख कि नंबर प्लेट खरीदने के पीछे क्या कारण था जानिए

समझो तुम्हने एक नई कार खरीद ली और आरटीओ से उस कार का पासिंग नंबर दिया जाएगा । और वही नंबर कार के नंबर प्लेट पर डालोगे।

समझो तुम्हे कोई और ही नंबर पसंद है । और तुम्हे अपने पसंद का नंबर आरटीओ से लेने के लिए कुछ हजार रुपये ज्यादा देने पड़े तो तुम दे दोगे।

पर वह रक्म छोटी हो तब .

 एक सामान्य इंसान उसे अधिक पैसा नहीं दे सकता । पर गुजरात के एक बिल्डर ने अपना मनपसंद नंबर आरटीओ से लेने के लिए , 19 लाख खर्च किए । आप को यकीन नहीं होता होगा मगर है सच्च है। राजकोट में रहने वाले गोविंद परसाना नामक यह बिल्डर ने अपने नए मर्सडीज कार के लिए 0007 यह नंबर आरटीओ से 19 लाख देकर खरीद लिया है ।

 आपको लगता होगा कि 0007 इस नंबर के लिए यह इंसान ने इतनी बड़ी रक्कम अदा की और यह इंसान जेम्स बॉड का फॅन है एसा नहीं । गोविंद परसाना यह श्री: गणेश जी के भक्त है। और 7 अंक है गुजराती में लिखे तो गणेश जिकी प्रतिमा जैसे दिखती है । इस लिए उन्होंने इस नंबर के लिए इतनी भारी रक्कम् अदा की है। यह नंबर के लिए अपनी कार की रक्कम् की 33% प्रसेंट इतनी रक्कम् खर्च की

 इस नंबर के लिए आरटीओ ने लिलाव घोषित किया था। और उसमे परसाना इन्होंने 19 लाख की बोली लगा के यह नंबर लिया । वीआईपी नंबर के लिए बोली का कार्यक्रम रखा जाता है। और लोग अपने मनपसंद नंबर के लिए कितना भी बड़ी बोली लगाने के लिए तयार रहते है , एसा आरटीओ अधिकारियो ने बताया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »