जानिए मछली बनाने का सबसे आसान तरीका

डायबिटीज में फायदेमंद

मछली डायबिटीज मरीज के लिए काफी लाभदायक होती है। मछली खाने वालों को डायबिटीज का जोखिम कम रहता है। मछली में डीएचए और ईपीए ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है।

कैसर से बचाव में

जो लोग नियमित रूप से मछली का सेवन करते हैं उन्हें कैंसर होने का खतरा कम होता है. मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है, जो कैंसर से बचाव करता है. इसे खाने से ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर से बचाव होता है.

मछली बनाने के लिए सामग्री

मछली 2500 ग्राम

मीडियम साइज के 1 प्याज का पेस्ट

लहसुन का पेस्ट 2 बड़ा चम्मच

अदरक का पेस्ट 2 बड़ा चम्मच

राई का पेस्ट 1/2 कप

टमाटर का पेस्ट 1/4 कप

पानी 1 कप

नमक स्वादानुसार

तेल आधा कप

जीरा 1 छोटा चम्मच

हल्दी 1 छोटा चम्मच

गरम मसाला 1 छोटा चम्मच

लाल मिर्च 1 छोटा चम्मच

कड़ाही

मछली बनाने के लिए विधि

मछली को पहले साफ पानी में अच्छे से 2-3 बार धो ले जिससे उसमे से गंदगी बाहर आ जाए।

मछली को अच्छे से साफ करके धो लें, और बड़े-बड़े पीस में काट लें। अब एक कड़ाई में हल्दी, नमक, पानी, पीसा हुवा जीरा और टमाटर डालकर मध्यम आंच पर इन सबको को अच्छे से मिलाते हुए पकाए. जब पानी में उबाल आ जाए तब आंच धीमा कर दे जब यह एक अच्छा गाढ़ा मिक्सचर बन जाए तो आंच बंद कर दे और इसे अलग निकाल कर रख ले.

इसी कड़ाही में तेल डालकर मध्यम आंच पर मछली को बीच बीच में पलटते हुए भूरे में आने तक भुने. ऐसे ही सभी मछलियों के टुकड़ो को भुन ले. भूनने के बाद मछली को नैपकिन पेपर या पेपर पर रख दे जिससे अनावश्यक तेल मछलियों से बाहर आ जाए.

अब कड़ाई में थोड़े से तेल को डालकर गर्म करे और सरसों दाने, जीरा, कलौंजी, सौंफ और मेथी दाना को डालकर कुछ सेकंड्स तक चलाते हुए भून ले. जब इसमें से तेजी से खुशबू आने लगे तब इसमें टमाटर की बनी हुए पेस्ट को मिलाये और 1 मिनट तक चलाते हुए साथ में मिक्स करे. अब इसमें मछलियों के भुने हुए टुकड़े भी मिलाये और 30 सेकंड्स तक लगातार चलाते हुए मिक्स करे. अपने पसंद की ग्रेवी के लिए पानी मिलाये और 5 मिनट तक ढँक कर इसे पकने दे।

ऊपर नींबु का टुकड़ा सजा दें। प्लेट पर टुकड़ों को रखें। ऊपर से चाट मसाला और लाल मिर्च पावडर छिड़क कर गरमागरम परोसें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »