जानिए कम नींद के नुकसान

नींद हमारे समग्र स्वास्थ्य के लिए अति महत्वपूर्ण है क्योंकि सोने के दौरान ही हमारा शरीर अपनी मरम्मत करता है। नींद को अपने शरीर और दिमाग के लिए छुट्टी की तरह मानें, और छुट्टी की ज़रूरत किसको नहीं होती! अगर आप पर्याप्त नींद नहीं पा रहे हैं तो इसके कई बुरे असर पड़ सकते हैं आपकी सेहत पर।

कम सोने से आपका शारीरिक स्वास्थ्य बिगड़ता है
हमारे संपूर्ण शारीरिक कल्याण को नियंत्रित करने के लिए नींद अत्यंत महत्वपूर्ण है+ अच्छी नींद क्षतिग्रस्त या रक्त वाहिकाओं, मांसपेशियों और ऊतकों की मरम्मत करने में मदद करती है। लगातार नींद का अभाव है हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, गुर्दों के विकारों, स्ट्रोक, और मधुमेह से संबंधित पाया गया है। नींद का अभाव मोटापा बढ़ने की संभावना बढ़ाता है।

अच्छी नींद एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली का निर्माण करने में भी मदद करती है, जो आपके शरीर को वायरल और बैक्टीरियल संक्रमणों से बचाव में मदद करती है। नींद की कमी आपको अपने आसपास के हानिकारक संदूषकों और रोगाणुओं से अधिक संवेदनशील बना देती है।

कम सोने से आप अपने काम पर कम कुशल बन जाते हैं
नींद की कमी आपको काम पर कम उत्पादक बनाती है। जब आप नींद से वंचित होते हैं तो आप काम पर नींद में होते हैं। कार्य को पूरा करने में अधिक समय लगता है, प्रेरित महसूस करना मुश्किल होता है, ध्यान देना कठिन होता है, और निर्देशों का पालन करना भी मुश्किल होता है

कम सोने से आपका हार्मोनल बैलेंस बिगड़ता है
जब हम सोते हैं, तो हमारे शरीर में महत्वपूर्ण हार्मोन बनते हैं जो हमारी भूख, चयापचय और ऊर्जा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। इसलिए जब हमें पर्याप्त नींद नहीं मिलती है, तो हमारे शरीर का सामान्य हार्मोनल संतुलन बिगड़ जाता है।

कम नींद हमारे कोर्टिसोल स्तर (तनाव हार्मोन) और इंसुलिन को बढ़ाती है जिससे वजन बढ़ सकता है और मधुमेह हो सकता है। नींद का अभाव हमारे लेप्टिन को भी कम करता है (हार्मोन जो हमारे मस्तिष्क को खाने की पूर्णता का संकेत देता है) और घ्रालिन के स्तर को बढ़ाता है (हार्मोन जो हमें भूक का एहसास कराता है)। इसलिए यदि आपको उचित नींद नहीं मिल रही है, तो आप ना ही ज़्यादा भोजन ख़ान चाहेंगे, बल्कि तका हुआ होने की वजह से एक्सरसाइज नहीं कर पाएँगे ओए सारा अधिक भोजन आपके वज़न को बढ़ा सकता है।

कितने घंटे सोना चाहिए –
नींद की आवश्यकता हर व्यक्ति के लिए अलग होती है, लेकिन एक स्वस्थ वयस्क व्यक्ति को प्रति रात 7 से 9 घंटे की नींद के बीच की जरूरत होती है। नीचे दी गयी टेबल आपको बता रही है की आपको आयु की हिसाब से कितने घंटे सोना चाहिए। यह जानकारी यूयेसे की नेशनल स्लीप फाउंडेशन द्वारा दी गयी है। तो इसे ध्यान से देखें और अवश्य रोज़ ही पूरी नींद सोयें।

कम सोने से आपके मस्तिष्क को रीचार्ज करने के लिए समय नहीं मिलता है
जैसे आपके फोन को रीचार्ज करने की जरूरत होती है, आपके दिमाग को भी रीचार्ज करने की जरूरत होती है। अच्छी नींद आपके मस्तिष्क में नए तंत्रिका पथ बनाकर आपको अगले दिन नई जानकारी सीखने, बनाए रखने और उपयोग करने में मदद करती है। अच्छी नींद आपको अधिक स्पष्ट रूप से सोचने, समस्याओं को हल करने, रचनात्मक तरीके से सोचने, निर्णय लेने और ध्यान केंद्रित करने में सक्षम बनाती है। अगर कम सोएंगे तो इन सभी लाभ से वंचित रह जाएँगे।

कम सोने से आपका भावनात्मक स्वास्थ्य बिगड़ता है
आपको यह बताने के लिए अध्ययन की आवश्यकता नहीं है कि नींद की कमी आपको चिड़चिड़ा, जल्दी से नाराज, आवेगी, और मूडी बना देती है। इसके अलावा, कम नींद आत्महत्या की प्रवृत्ति, अवसाद, ध्यान की कमी, और जोखिम लेने के व्यवहार से जुड़ी पाई गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »