जानिए वास्तुदोष से जाने घर पर होने वाली कलह के सबसे बड़े कारण

पति पत्नी के बीच होने वाली हल्की नोकझोंक तो हर किसी के घर पर चलती रहती है यदि ये ना हो तो दोनों के बीच का प्यार अधूरा रहता है। पर यदि यही नोक झोंक रोज की आदत बन जाये तो जीवन एक नरक के समान बन जाता है, फिर ना तो प्यार होता है उस घर में… और ना ही खुशियां। हर इंसान मानसिक शांति की चाहत में इधर उधर भटकने लगता है या फिर गलत कदम उठाने को तैयार हो जाता है। आज हम इन्हीं पहलुओं के बारें में आपको अवगत करा रहे हैं कि रोज की होने वाली लड़ाई झगडे का कारण कहीं वास्तु दोष तो नहीं.. तो जाने इस सकंट से छुटकारा पाने के उपाय…

आइए जानते हैं कैसे वास्तु दोषों को ठीक करके अपने जीवन को बनाएं खुशहाल …

1- घर के उत्तर पूर्वी दिशा में कभी भी किचन या टॉयलेट ना हो, ये आपके घर में आंशाति बढ़ाने का सबसे बड़ा कारण बन सकते हैं। ऐसे घरों में हमेशा कलह बनी रहती है। परिजनों के बीच अक्सर अनबन रहती है, इसलिए इस दिशा में भूलकर भी किचन या टॉयलेट न बनवाएं।

2- आपके घर में दरवाज़े या खिड़कियों को पूर्व या फिर उत्तर दिशा में खुलने वाले होने चाहिए। इसके अलावा दरवाज़ा खोलने या बंद करने पर किसी भी प्रकार की आवाज़ नहीं होना चाहिए ये काफी अशुभ माना जाता है इसलिए इस बात का विशेष ध्यान रखें।

3- वास्तु के अनुसार ईशान कोण को शुभ माना जाता है, पर अगर आपके घर का ईशान हिस्से दूसरों से ज्यादा ऊचाई पर है तो घर में कलह की स्थिति बनी रहेगी। ऐसी दशा में बाप-बेटे की बीच भी मनमुटाव रहता है।

4- ज्यादातर लोग दिवंगत परिजनों की फोटो अपने पूजा घर में देवी देवताओं के बगल में लगाते हें लेकिन ये भी उचित नहीं माना गया है, ऐसी तस्वीरों को दक्षिण दिशा की ओर दीवार पर टांगना चाहिए।

5- वास्तु के अनुसार हरहाल में पूजा घर ईशान कोण में ही होना चाहिए, ऐसी मान्यता है कि भगवान का मुख भी इसी दिशा में होना चाहिए।

6- वास्तु के जानकारों का माना है कि घर के उत्तर-पूर्व दिशा की ओर कूड़ेदान को कतई नहीं रखना चाहिए इससे घर में हमेशा विवाद, लड़ाई झगड़े बने रहते हैं।

7- आपके बेडरूम में पलंग के ठीक सामने आईना नहीं होना चाहिए यानी पलंग पर लेटने के बाद शीशे में लटा हुआ व्यक्ति नहीं दिखना चाहिए।

8- घर में युद्ध की तस्वीर, जैसे (महाभारत के समय युद्ध भूमि पर गीता के उपदेश देते कृष्ण), बंद घड़ी, टूटे हुए कांच की चीज़ें भूलकर भी न रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »