जानिए लोकाट खाने के फायदे

लोकाट एक उपोष्‍णकटिबंधीय फल है जिसके फायदे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत अधिक माने जाते हैं। लोकाट खाने के लाभ इसमें मौजूद पोषक तत्‍वों और औषधीय गुणों के कारण होते हें। लोकाट फल का सेवन करके मधुमेह और कोलेस्‍ट्रॉल से संबंधित समस्‍याओं से बचा जा सकता है। लोकाट में कैंसर रोधी गुण होते हैं। यदि आप लोकाट का उपयोग करके विभिन्‍न प्रकार के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं। लोकाट फल का इस्‍तेमाल उच्‍च रक्‍तचाप को कम करने और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए भी किया जाता है।

लोकाट को चीनी प्‍लम (Chinese Plum) के नाम से भी जाना जाता है। यह झाडियों में पाया जाने वाला फल है जो मूल रूप से चीन में पैदा होता है। लोकाट का वैज्ञानिक नाम एरीओबोट्री जापोनिका (Eriobotrya japonica) है। और यह रोसेया परिवार से संबंधित है। यह सेब, नाशपाती और प्‍लम जैसे फलों की तरह होता है। लोकाट फल की दो वैरायटी होती हैं एक जापानी और दूसरी यूरोपीय। लेकिन जापानी लोकाट की तुलना में यूरोपीय लोकाट अधिक लोकप्रिय है।

भारत में भी लोकाट की खेती की जाती है जिनकी गुणवत्ता, स्‍वाद, आकार और पोषक तत्‍व वैरायटी और जलवायु के अनुसार अलग-अलग हो सकती है। आइए जाने लोकाट फल खाने पर कौन से पोषक तत्‍व प्राप्‍त किये जा सकते हैं।

लोकाट के अर्क में साइटोकिन (cytokine) होता है जिसमें प्रतिरक्षा मॉड़लन गुण होते हैं। जिसके कारण यह कैंसर चिकित्‍सा में लाभकारी होता है। इसके अलावा इसमें लेटरिन (Laetrile) नामक एक एंटी-कैंसर यौगिक होता है। जो कैंसर कोशिकाओं को नष्‍ट करने में सहायक होता है। कैंसर के उपचार के दौरान लोकाट का सेवन करना शरीर में मौजूद विषाक्‍त पदार्थों को दूर करने में सहायक होता है। 

लोकाट में पाये जाने वाले पोषक तत्‍वों में पोटेशियम भी होता है जो हृदय प्रणाली के लिए वासोडिलेटर (vasodilator) के रूप में कार्य करता है। पोटेशियम रक्‍त वाहिकाओं और धमनियों पर खिंचाव और दबाव को कम करके रक्‍तचाप को विनियमित करने और हृदय स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ाने मदद करता है। पोटेशियम को मस्तिष्‍क बूस्‍टर माना जाता है क्‍योंकि यह मस्तिष्‍क की कोशिकाओं में रक्‍त के प्रवाह को बढ़ाता है। 

डायबिटिक रोगी के लिए लोकाट के बहुत फायदे होते हैं। मधुमेह की रोकथाम करने के लिए अक्‍सर लोग लोकाट की चाय पीने की सलाह देते हैं। क्‍योंकि नियमित रूप से लोकाट का सेवन करने वाले लोगों में ब्‍लड शुगर में काफी कमी आती है। लोकाट की चाय में पाए जाने वाले कार्बनिक यौगिक इंसुलिन और ग्‍लूकोज के स्‍तर को विनियमित करने में सहायक होते हैं।

दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर लाइक करना ना भूलें और और अगर आप हमारे चैनल पर नए हैं तो आप हमारे चैनल को फॉलो कर सकते हैं ताकि ऐसी खबरें आप रोजाना पा सके धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »