जानिए नींद की गोलियां स्वास्थ्य के लिए कितनी होती है खतरनाक?

कुछ लोग तनाव या अन्य कारणों से स्लीपिंग पिल्स यानी नींद की गोलियां खाने लगते हैं। इन गोलियों से थोड़े समय के लिए तो आराम मिल सकता है। लेकिन, इन स्लीपिंग पिल्स को अपनी आदत बना लेना खतरनाक साबित हो सकता है। यदि आप लंबे समय से अनिद्रा के कारण परेशान है तो ऐसे में बिहेवियरल थेरेपी सबसे अच्छा उपचार साबित होता है। यदि आप नियमित रूप से नींद न आने की समस्या से जूझ रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

इस समस्या का उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी अनिद्रा का कारण क्या है? कभी-कभी, मेडिकल कंडीशन या कोई और कारण के चलते भी आपको नींद आने में परेशानी हो सकती है। प्रिस्क्रिाब्ड स्लीपिंग पिल्स नींद की गोलियां लेने से आप आसानी से और लंबे समय तक सो सकते हैं, लेकिन इन गोलियों के नुकसान ज्यादा हैं।

हमेशा स्लीपिंग पिल्स लेने से पहले अपने डॉक्टर से संभावित साइड इफेक्ट्स के बारे में पूछें। प्रकार के आधार पर, नींद की गोलियों में साइड इफेक्ट्स निम्नलिखित हो सकते हैं:

चक्कर आना या कमजोरी महसूस करना
सिरदर्द
गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (जठरांत्र) संबंधी समस्याएं, जैसे कि दस्त और मतली
लंबे समय तक सुस्ती, दवाइयों के कारण आप सोते रहते हैं
एलर्जी रिएक्शन
याददाश्त की समस्याएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »