5 साल का बच्चा कैसे बना भूत जानिए

एक बंगले में छोटा सा परिवार रहने आता है। जिसमें 7 साल की एक लड़की होती है और उसका एक छोटा भाई 5 साल का होता है और उनके मम्मी पापा होते हैं। उस बंगले के सामने से एक हाईवे का रोड जा रहा होता है। सड़क के दूसरी तरफ घर बना होता है जिसमें एक बुजुर्ग अंकल जी होते हैं।

उस हाईवे की एक खासियत थी। हाईवे पर बहुत बड़े-बड़े ट्रक चला करते थे और उसके पास में एक कब्रिस्तान बना हुआ था।

एक बार की बात है, उनका 5 साल का छोटा बच्चा किसी तरह से खेलते खेलते सड़क के बीच में आ जाता है। वह जैसे ही सड़क पर आता है तभी एक ट्रक उस बच्चे को अपनी चपेट में ले लेता है और बच्चा हमेशा के लिए मर जाता है। उसके दोनों मम्मी, पापा बहुत रोते हैं। वह इतने चिंतित हो जाते हैं कि उन्हें यही ध्यान नहीं रहता है कि उनका छोटा लड़का मर चुका है। उनके सामने वाले मकान में जो बुजुर्ग रहते हैं वही सब हादसा देख रहे होते हैं। और उस छोटे बच्चे के बारे में सोचते हैं कि वह बच्चा कितना प्यारा था, मेरे साथ खेला करता था और आज वह हमेशा के लिए चला गया। यही सोचते हुए वह बुजुर्ग अंकल पति पत्नी के पास आते हैं और उन्हें सांत्वना देते हैं। उनकी छोटी लड़की यह सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाती है और वह हमेशा के लिए मौत हो जाती है।

उसके पापा अपने बेटे को दफना देते हैं और कब्रिस्तान से सभी लोग चले जाते हैं। अपने घर आ जाते हैं। घर आकर के सब रोने लगते हैं और छोटे बेटे को याद करते हैं। उसका पापा इतना पागल सा हो जाता है। कि वह शराब पीने लगता है तभी वहां वो बुजुर्ग अंकल आ जाते हैं और उसको एक राज की बात बताते हैं बुजुर्ग अंकल उससे कहते हैं कि मैं तुम्हारे बेटे को जिंदा कर सकता हूं। लेकिन एक शर्त पर कि तुम यह बात किसी को बताओगे नहीं।

दोबारा जिंदा किया

उस आदमी को बुजुर्ग की बात पर यकीन नहीं होता है और वह सोचता है कि शायद यह बुड्ढा सठिया गया है क्योंकि कोई मरा हुआ इंसान दोबारा कैसे जिंदा हो सकता है? तुम बुड्ढे की बात पर ज्यादा यकीन नहीं करता है और वहां से चला जाता है। ऐसे करते हुए 2 दिन बीत जाते हैं 2 दिन बाद में बुड्ढा फिर से उस आदमी को मिलता है और फिर से वही बात दोहराता है कि मैं तुम्हारे बेटे को जिंदा कर सकता हूं। इस बार वे आदमी से पूछ लेता है कि मेरा बेटा कैसे जिंदा हो पाएगा। वह तो मर चुका है, बुड्ढा कहता है की कब्रिस्तान के पास एक ऐसी जगह है जहां पर मरे हुए इंसान को यदि गाढ़ दिया जाए तो वह अगली रात को दोबारा से जिंदा होकर आ जाता है। उस बुड्ढे के साथ अपने बेटे की कब्र पर जाता है और दोनों रात को खुदाई करके उस लाश को बाहर निकाल लेते हैं। उस लाश को निकाल करके फिर वह कब्रिस्तान के पीछे एक पहाड़ी पर ऊंची जगह होती है, उस जगह पर उस बच्चे को गाढ़ देतें हैं। उसको गाढ़ने के बाद वह दोनों अपने अपने घर पर लौट आते हैं। इस उम्मीद से कि वह छोटा सा लड़का दोबारा जिंदा हो जाएगा।

कब्र से बाहर आया

दूसरी रात को आकाश में बहुत तेज बिजली चमकती है और बादल भी गरजने लगते हैं, बहुत तेज हवाएं चलने लगती है और अपने बेटे को जिस जगह पर गाढ़ा था उस जगह पर गहरा गड्ढा हो जाता है और वह लड़का बाहर निकल कर आ जाता है। उस दिन बहुत मनहूस रात होती है। काली रात, उस रात यदि कोई बाहर निकल आए तो अंधेरा देख कर उसे हार्ट अटैक पड़ जाए इस तरह की रात थी। वह लड़का अपने घर आ जाता है और अपनी बहन के कमरे में चला जाता है, उसकी बहन सो रही होती है तभी अचानक उसके बहन की आंख खुलती है और वह देखती है कि उसका भाई उसके सामने खड़ा है, उसके भाई का नाम मिंटू होता है तो वह तेज चिल्लाती है मिंटू……..।

पैरों के निशान

तभी उसके मम्मी पापा की नींद खुल जाती है और वह अपनी छोटी बेटी के कमरे में आ जाते हैं, जैसे ही वे दोनो कमरे में आते हैं, उसका भाई वहां से गायब हो जाता है। वह दोनों अपनी छोटी लड़की से पूछते हैं की बेटी इतनी तेज क्यों चिल्लाई तो वो बताती है कि, पापा अभी यहां पर मेरा भाई खड़ा था उसे देख कर के मैं जोर से चिल्ला पड़ी।

कुछ दिन बीत जाने के बाद उसके पापा गार्डन में कोई पौधा लगा रहे होते हैं तभी वहां पर किसी के चलने की आवाज आती है तभी वह चारों तरफ देखते हैं लेकिन उन्हें कोई दिखाई नहीं देता है। फिर वह थोड़ा आगे जाकर देखते हैं तो उन्हें वहां पर किसी छोटे बच्चे के पैरों के चिन्ह दिखाई पड़ते हैं। तो फिर सोचते हैं शायद कहीं यह पैरों के निशान मिंटू के तो नहीं है?

तभी उनकी नजर एक पेड़ पर पड़ती है जहां उनका मिंटू खड़ा मिल जाता है। मिंटू को देखकर आश्चर्य में पड़ जाते हैं और उनके अंदर खुशी का ठिकाना नहीं रहता है। मिंटू को गोदी में उठाकर अंदर कमरे में अपनी पत्नी के पास ले आते हैं। उनकी बीवी को, मिंटू को देखकर विश्वास नहीं होता है। वह सोचती हैं कि यह कोई सपना तो नहीं है। तो वह बताता है कि किस तरह से मैंने मिंटू को दोबारा जिंदा कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »