जानिए दिल को मजबूत करने के आसान उपाय

आजकल की व्यस्त जीवनशैली में लोगों के पास अपना ध्यान रखने के लिए समय नहीं है, जिसके कारण दिल कमजोर होने की समस्या होने लगी है। इस बीमारी को चिकित्सीय भाषा में “कार्डियोमायोपैथी” कहा जाता है। इन बीमारियों से बचने के लिए अपने लिए थोडा समय निकालकर दिल को मजबूत बनाये रखने की आवश्यकता है। दिल को मजबूत बनाने के लिए अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव लेकर आएं जैसे व्यायाम करें, तनाव को कम करें, हंसी-खुशी से रहें आदि। इस लेख में हम आपको दिल को मजबूत करने के तरीके, उपाय और नुस्खे बता रहें हैं। इन उपायों की मदद से आप कमजोर दिल को मजबूत कर सकते हैं।

दिल मजबूत करने के लिए सिगरेट छोड़ें –
अगर आप दिल को मजबूत करना चाहते हैं तो धूम्रपान करना छोड़ दें। कोरोनरी आर्टरी डिजीज (coronary heart disease) धूम्रपान के कारण होती है। धूम्रपान करने से शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह कम हो जाता है और रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं। अगर आप सिगरेट को एक साल तक नहीं पीते हैं तो हार्ट अटैक आने का जोखिम काफी कम हो जाएगा। सिगरेट या तम्बाकू छोड़ने के लिए आप किसी वेबसाइट या किसी अच्छी संस्थान, दोस्त, परिवार आदि की मदद ले सकते हैं।

दिल को मजबूत करने का तरीका है वेट लॉस –
अधिक वजन की वजह से ह्रदय की बीमारी का जोखिम बढ़ जाता है, जैसे हाई बीपी, हाई ब्लड ट्रिगलसिराइड्स (triglycerides) आदि। दिल मजबूत करने के लिए स्वस्थ, कम वसा और कम मात्रा में चीनी वाला आहार खाएं, ज्यादा से ज्यादा फल और सब्जियां लें, साथ ही रोजाना शारीरिक गतिविधियां भी करें। वजन कम करने से आपका दिल तो मजबूत होगा ही साथ में शुगर और स्लीप एप्निया (sleep apnea) की भी समस्या कम होगी।

दिल को मजबूत करने का उपाय है सेचुरेटेड फैट कम खाना –
सैचुरेटेड फैट से समृद्ध आहार ज्यादा मात्रा में खाने से आपके रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ सकता है। इससे ह्रदय की बीमारी का जोखिम भी बढ़ता है। डॉक्टरों की सलाह है कि ह्रदय की बीमारी का जोखिम कम करने के लिए अपनी रोजाना की डाइट में 7% से ज्यादा सेचुरेटेड फैट न लें। जो आप खा रहे हैं उन आहारों को ध्यान में रखें और सेचुरेटेड फैट से समृद्ध आहारों को न खाएं।

दिल को मजबूत करने के लिए तनाव कम करें –
जिस तरह से आप अपनी निजी और प्रोफेशनल लाइफ को तनावपूर्ण तरीके से संभालते हैं इससे आपके ह्रदय पर प्रभाव पड़ता है। तनाव की स्थिति होने से ब्लड प्रेशर बढ़ता है, कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है, शारीरिक गतिविधियां कम होने लगती हैं और धूम्रपान करने की आदत पड़ जाती है। तनाव से निकलने के लिए और स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए अपने डॉक्टर से बात जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »