क्या शादी में देरी हो रही है?तो आज ही इसे आजमाएं

आपकी कुंडली में ग्रहों की स्थिति आपके विवाह को प्रभावित करती है। शास्त्रों के अनुसार, विवाह तभी होता है जब बृहस्पति ग्रह मजबूत होता है। इसलिए, कमजोर बृहस्पति वाले लोगों के विवाह में देरी हो सकती है। ज्योतिषीय गणना के अनुसार, जब यह योग पंचम भाव में होता है, तो यह विवाह का योग बन जाता है। इसके अलावा, यदि किसी व्यक्ति की कुंडली एकादश भाव में गुरु पंचमेश के साथ एक वर्ष के लिए है, तो उसकी शादी एक वर्ष में हो जाती है। ग्रहों के साथ-साथ शुक्र, चंद्रमा और बुध, बृहस्पति भी विवाह को प्रभावित करते हैं। यदि आपकी कुंडली में गुरु की दृष्टि पंचम भाव में है, तो विवाह के योग बन रहे हैं, लेकिन, इसी समय राहु ग्यारहवें घर में बैठे हों, तो विवाह के योग अशुभ होते हैं। ऐसे योग के कारण व्यक्ति को शादी करने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यदि कुंडली में बृहस्पति की पंचम स्थिति पर शनि, राहु और केतु जैसे अशुभ ग्रह बैठे हों, तो विवाह में बाधा आ सकती है। यदि आप भविष्य में शादी करना चाहते हैं, तो आपको अपने मुख्य ग्रह को मजबूत करना होगा। बृहस्पति को मजबूत करने के लिए निम्नलिखित उपायों को आजमाएं।

यदि किसी युवती की शादी नहीं हो रही है, तो उसे सोमवार को शिवलिंग पर कच्चा दूध चढ़ाना चाहिए। महादेव इस उपाय को आजमाकर खुश हो जाते हैं और वे तुरंत शादी कर लेते हैं। यदि आप गुरुवार को गौमाता की सेवा करते हैं और उन्हें हरा चारा खिलाते हैं, तो आपकी कुंडली से संबंधित सभी ग्रह दोष दूर हो जाएंगे। यदि आप गुरूवार और केले के पेड़ की पूजा करते हैं, तो यह निकट भविष्य में आपके विवाह के लिए शुभ योग बना सकता है। इसके अलावा अगर आप हर गुरुवार को उपवास रखकर किसी जरूरतमंद व्यक्ति को केले का दान करते हैं, तो भविष्य में आपके विवाह के प्रबल योग बन सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »