IPL की चीयरलीडर्स कितनी कमाई करती हैं?

2008 में भारत में क्रिकेट का एक ग्रैंड शो शुरू हुआ. आईपीएल. फटाफट क्रिकेट का लीग संस्करण. यहां मुल्कों की नहीं, शहरों की टीमें आपस में भिड़ती हैं. भारत जैसे विशाल मुल्क में टीमों की कमी नहीं ही रहने वाली थी. यहां शहर और प्लेयर्स बहुतायत में जो थे. बस फिर क्या था! बड़ी कामयाबी से आगाज़ हुआ. क्रिकेट के इस नए शो को न सिर्फ हाथोहाथ लिया गया, बल्कि हर आने वाले साल इसकी लोकप्रियता बढ़ती ही गई.

पहले सीज़न की विजेता टीम.

2008 में आईपीएल की शुरुआत के साथ ही एक और चीज़ से भारतीय क्रिकेटप्रेमियों का वास्ता पड़ा. चीयरलीडर्स. हर चौके, छक्के या विकेट पर नाचने वाली लडकियां. ये हम इंडियंस के लिए नया था. चीयरलीडर्स का चलन विदेशों भले ही बरसों से हो, अपने यहां नई चीज़ थी. इसी चक्कर में कई चीयरलीडर्स के साथ बदतमीज़ी की घटनाएं भी हुईं. ये कुछ-कुछ ऐसा ही था, जैसे नई-नई चली मेट्रो में लोगों ने विध्वंस कर दिया था. बहरहाल, वक़्त के साथ भारतीय क्रिकेट प्रेमी चीयरलीडर्स के अस्तित्व को ग्रेसफुली स्वीकारना सीख गए. अब वो भी इस खेल का हिस्सा बन चुकी हैं.

आईपीएल में मोटा पैसा है ये हर कोई जानता है. खिलाड़ियों की खरीद में करोड़ों रूपए खर्च किए जाते हैं. प्राइज़ मनी भी ज़ोरदार होती है और प्रसारण राइट्स भी अरबों में बिकते हैं. पानी की तरफ बहता है पैसा आईपीएल में. ऐसे में कईयों को ये सवाल ज़रूर तंग करता है कि चीयरलीडर्स के हिस्से क्या आता है? क्या उनकी कोई फिक्स तनख्वाह होती है या कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर पैसे मिलते हैं उनको? जैसे भी मिलते हैं, मिलते कितने हैं? आइए जानते हैं.

RCB की चीयरलीडर्स.

आईपीएल में भी सैलरी के नाम पर भेदभाव है. कुछ टीमें अपनी चीयरलीडर्स को ज़्यादा पैसे देती हैं, तो कुछ उनके मुकाबले कम. ज़्यादा पैसे देने वालों में शाहरुख़ ख़ान की KKR सबसे ऊपर है. उसके बाद रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और मुंबई इंडियंस का नंबर आता है.

सूत्रों के मुताबिक़ आईपीएल में लगभग सभी चीयरलीडर्स को 100 डॉलर की बेसिक सैलरी प्रति मैच मिलती ही मिलती है. मतलब लगभग 6,500 रुपए.

इतनी मिनिमम सैलरी देने वाली टीमें हैं,

दिल्ली डेयरडेविल्स.
चेन्नई सुपर किंग्स.
सनराइज़र्स हैदराबाद.
किंग्स इलेवन पंजाब.
राजस्थान रॉयल्स.
मुंबई इंडियंस.

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर 140 डॉलर्स देते हैं. जो रुपयों में तकरीबन 9,100 बैठता है.

सबसे बढ़िया किंग ख़ान की टीम का हिसाब है. वो 150 डॉलर प्रति मैच देते हैं चीयरलीडर्स को. लगभग दस हज़ार रुपए.

इसके अलावा KKR, RCB और मुंबई की टीमें 100 डॉलर यानी 6500 रुपए का बोनस भी देती हैं.

शाहरुख़ की टीम की चीयरलीडर्स.

ये तो हुई बेसिक सैलरी. इसके अलावा भी चीयरलीडर्स को अलग से इनकम होती है. उनके खाने-पीने, होटल में रहने और आने-जाने का सारा खर्चा फ्रेंचाईज़ी उठाती है.

# कुछ टीमें मैच जीतने पर चीयरलीडर्स को तीन हज़ार रुपयों तक का बोनस भी देती हैं.
# अगर मैच के अलावा कहीं और उनकी हाज़िरी लगती है, जैसे किसी फंक्शन वगैरह में, तो उन्हें सात से 12 हज़ार रुपए तक अलग से मिलते हैं.
# अगर उनके साथ कोई फोटोशूट करवाया जाता है तो हर एक ऐसे शूट के पांच हज़ार रुपए मिलते हैं.

कुछ लोगों का मानना है कि ये आंकड़े कम करके बताए जाते हैं. कुछ वेब साइट्स के मुताबिक़ KKR और RCB को छोड़कर सभी टीमें 150 डॉलर यानी दस हज़ार रुपयों की बेसिक सैलरी देती ही हैं. आरसीबी 250 डॉलर तो केकेआर 300 डॉलर पे करती है. कम से कम इस मामले तो सबको इत्तेफाक है कि केकेआर सबसे ज़्यादा पैसे देती है. ये आंकड़े पिछले सीज़न तक के हैं. हर सीज़न में लगभग दस परसेंट का हाइक भी मिलता है. ज़ाहिर है रकम और बढ़ेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »