इस तरीके से चुटकियों में दूर होगी आपकी बवासीर की बीमारी

बवासीर को पहचानना बहुत ही आसान है। मलत्याग के समय मलाशय में अत्यधिक पीड़ा और इसके बाद रक्तस्राव, खुजली इसका लक्षण है। इसके कारण गुदे में सूजन हो जाती है। आयुर्वेदिक औषधियों को अपनाकर बवासीर से छुटकारा पाया जा सकता है। कुछ बवासीर अपने आप ठीक हो जाती है लेकिन, कुछ प्रकार के बवासीर को उपचार की आवश्यकता हो सकती है। इन उपचार विकल्पों में शामिल हो सकते हैं:

बवासीर के मस्‍सों को दूर करने के लिए मट्ठा बहुत फायदेमंद होता है। इसके लिए करीब दो लीटर छाछ लेकर उसमे 50 ग्राम पिसा हुआ जीरा और स्‍वादानुसार नमक मिला दें। प्यास लगने पर पानी के स्‍थान पर इसे पीये। चार दिन तक ऐसा करने से मस्‍से ठीक हो जायेगें। इसके अलावा हर रोज दही खाने से बवासीर होने की संभावना कम होती है। और बवासीर में फायदा भी होता है।

फाइबर सप्लिमेंट जैसे- पसीलियम या मिथाइलसेल्यूलोस से कब्ज में मदद करके बवासीर का इलाज किया जाता है

ओवर-द-काउंटर क्रीम और सपोसिटरी का उपयोग से अस्थाई रूप से बवासीर के दर्द और खुजली से छुटकारा दिला सकते हैं।

जरूरत पड़ने पर पाइल्स को हटाने के लिए हेमोराहाइडेक्टोमी प्रक्रिया भी अपनाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *