गर्मियों में ज्यादा पसीना आता है तो उसे रोकने के लिए करे ये घरेलू उपाय

गर्मियों में या वर्कआउट करते समय पसीना आना काफी सामान्य है। वास्तव में यह स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है क्योंकि यह शरीर को ठंडा रखने में मदद करता है और हमारा शरीर विषाक्त पदार्थों से मुक्त हो जाता है। लेकिन कुछ लोगों को अत्यधिक पसीने आता है जो हार्मोनल असंतुलन और अन्य कई कारणों से हो सकता है।

इसलिए इस समस्या से निपटने के लिए कुछ घरेलू उपायों पर नजर डालें –

पसीने का इलाज है वीटग्रास –
वीटग्रास एक औषधीय पौधा है जिसे हिंदी में गेहूं का जवारा कहा जाता है जिससे मानव शरीर को कई फायदे होते हैं। इस पौधे का रस विटामिन और खनिजों से भरपूर है जो आपके शरीर को शांत करने में मदद करता है। अधिक पसीने से राहत के लिए हर रोज एक गिलास वीटग्रास रस पिएं। आप आसानी से अपने बगीचे में इस पौधे को उगा सकते हैं।

पसीने से बचने के उपाय करें हरी चाय से –
हरी चाय शरीर के तापमान को बनाए रखने के लिए फायदेमंद होती है। यह पसीने की ग्रंथियों पर रोक लगाकर रखती है। कुछ मिनट के लिए पानी में चाय के पत्तों को उबालकर हरी चाय बनाएं और पी लें। आप इसे ठंडा करके अंडरआर्म्स, घुटनों के पीछे और अन्य क्षेत्र, जहाँ आपको अधिक पसीना आता है, वहाँ लगा सकते हैं।

अधिक पसीना कम करने का उपाय है टमाटर –
टमाटर एंटीऑक्सिडेंट्स से समृद्ध होते हैं। टमाटर त्वचा के रोम छिद्रों को कम करने में मदद करते हैं जिससे अत्यधिक पसीना ना आए। हर दिन 2 गिलास टमाटर का रस पिएं।

अधिक पसीने आने से छुटकारे के लिए खाएं अंगूर –
अंगूर भी एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर होते हैं जो शरीर के तापमान को कम रखने में मदद करते हैं। हर रोज थोड़े से अंगूरो का सेवन करें।

ज्यादा पसीना आना रोकने के उपाय करें नींबू पानी से –
नींबू और नमक का मिश्रण इलेक्ट्रोलाइट बैलेंस को बनाए रखने में मदद करता है क्योंकि पसीने की वजह से हमारे शरीर में नमक की कमी हो जाती है। नींबू और नमक को ठंडे पानी में मिलाकर हर रोज 2-3 गिलास पिएं।

इसलिएअपने शरीर के तापमान को ठंडा रखने के लिए दिन भर पानी, फलों के रस जैसे तरल पदार्थों का सेवन करें। गर्म और मसालेदार भोजन को खाने से बचें। सूती कपड़े पहनें और अत्यधिक धूप में बाहर जाने पर टोपी या स्कार्फ के साथ अपने सिर और चेहरे को कवर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »