आसमान से बर्फ कैसे गिरती है , बरसने वाले बादल काले क्यों दिखाई देते हैं?

  1. बर्फ कैसे गिरती है

सर्दी के मौसम में पहाड़ों और ठन्डे क्षेत्रों में गिरने वाली बर्फ वास्तव में पानी का ही एक जमा हुआ रूप है। जब बर्फ गिरती है तो यह रुई के छोटे-छोटे रेशों कि तरह मुलायम और सफ़ेद होती है। बर्फ के इन टुकड़ों कि रचना मणिमय(Crystalline) होती है। ये हेक्सागोनल (Hexagonal)होते है

टुकड़े सूर्य के प्रकाश के सभी रंगों को परावर्तित कर देते हैं इसलिए इनका रंग सफ़ेद दिखाई देता है। क्या तुम जानते हो बर्फ कैसे गिरती है? गर्मी के कारण समुद्रों, नदियों, झीलों, तालाबों आदि का पानी वाष्पित होता रहता है।

यह जलवाष्प हवा से हलकी होती है और हल्केपन के कारण यह वायुमंडल में ऊपर उठती जाती है। यही वाष्प वायुमंडल में बादलों का रूप धारण कर लेती है।

हम जानते हैं कि ऊँचाई के साथ-साथ वायुमंडल का तापमान भी काफी कम होता जाता है और कम तापमान वाले हिस्सों में अधिक जलवाष्प नहीं समा सकती। इस प्रकार वायुमंडल के ऊपरी क्षेत्रों में जलवाष्प की मात्रा उसकी क्षमता से अधिक हो जाती है।

इस स्थिति में वायुमंडल में उपस्थित धुल और धुएं के कणों पर जलवाष्प संघनित (Condensed) होकर ठण्ड के कारण बर्फ के कणों में बदल जाती है। ये कण एक दूसरे से चिपक कर बर्फ के मणियों (Crystals) में बदल जाते हैं। जब इनका भार अधिक हो जाता है तो ये बर्फ के टुकड़ों (Snowflakes) के रूप में नीचे गिरने लगते है

  1. बरसने वाले बादल काले क्यों दिखाई देते हैं?

हम जानते हैं कि बादलों में पानी कि असंख्य छोटी-छोटी बूँदें होती हैं। कुछ बादलों में इन बूंदों कि संख्या बहुत अधिक होती है तो दूसरों में बहुत कम। कुछ बदल सफ़ेद रंग के दिखाई देते हैं तो कुछ भूरे रंग के दिखाई देते हैं।

बरसने वाले बदल आमतौर पर काले दिखाई देते हैं। क्या तुम जानते हो बदलों का रंग काला क्यों दिखाई देता है? जब किसी वस्तु पर सूर्य का प्रकाश पड़ता है तो उसका कुछ भाग परावर्तित(Reflect) हो जाता है और कुछ वस्तु द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है

चमकीली वस्तुएं अक्सर अपने ऊपर पड़ने वाले प्रकाश को परावर्तित करती है। यदि कोई वस्तु उस पर पड़ने वाले प्रकाश को पूरी तरह अवशोषित कर लेती है तो वह काले रंग कि दिखाई देती है। वास्तव में काला रंग कोई रंग नहीं है। प्रकाश के सात रंग जब किसी वस्तु द्वारा अवशोषित कर लिए जाते हैं तो उस वस्तु का रंग काला दिखाई देता है।

जो बदल सूर्य के प्रकाश को परावर्तित कर देते हैं, वे सफ़ेद दिखाई देते हैं, लेकिन जो प्रकाश को अवशोषित कर लेते हैं, वे काले दिखाई देते हैं। बरसने वाले बादलों में पानी कि असंख्य बूंदे होती हैं जो प्रकाश के सभी रंगों को अवशोषित कर लेती है, इसलिए बरसने वाले बादलों का रंग काला दिखाई देता है। आकाश में जब ऐसे बादलों कि संख्या अधिक होती है तो दिन में भी अन्धकार हो जाता है क्योंकि ये बदल सूर्य के प्रकाश को अवशोषित कर लेते हैं औरुसे धरती पर नहीं आने देते।

ये बाल बर्फ के बहुत छोटे छोटे कणों से मिलकर बने होते हैं और इनकी ऊँचाई भी बहुत अधिक होती है। बर्फ के कण प्रकाश के लिए पारदर्शक होते हैं इसलिए कांच कि भांति इनमे से प्रकाश आर-पार निकल आता है। इसलिए ये चमकीले दिखाई देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *